LOADING

Type to search

रेफरेंडम 20-20 को लेकर गुरुद्वारों में समागम या अरदास की मंजूरी नहीं

देश पंजाबी न्यूज

रेफरेंडम 20-20 को लेकर गुरुद्वारों में समागम या अरदास की मंजूरी नहीं

Share

-सुरक्षा टाइट, दिल्ली पुलिस भी सतर्क, गुरुद्वारा प्रबंधन ने सुरक्षा बढ़ाई
–गुरुद्वारों में सिर्फ मत्था टेंक सकते हैं, कार्यक्रम की मनाही
–गुरुद्वारा कमेटी ने फर्जी पत्र की दिल्ली पुलिस से की शिकायत
–देश विरोधी पोस्टर बाजी को लेकर भी रहेगी निगरानी

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल : सिख फॉर जस्टिस के द्वारा दिल्ली में रेफरेंडम 20-20 की रविवार से मुहिम शुरू करने का दावा किया गया है। इसको लेकर सुरक्षा एजेंसियां सतर्क हैं। संगठन के प्रमुख गुर पतवंत सिंह पन्नू के द्वारा पिछले दिनों जारी वीडियो संदेश में दावा किया गया था कि उनके समर्थक गुरुद्वारा बंगला साहिब एवं गुरुद्वारा शीशगंज साहिब में अरदास करने के बाद दिल्ली में जनमत संग्रह की प्रक्रिया को शुरू करेंगे। जिसके बाद दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने 16 जुलाई को प्रस्ताव पास करके सिख फॉर जस्टिस के प्रयासों की निंदा की थी। इस बीच गुरुद्वारा बंगला साहिब के चेयरमैन परमजीत सिंह चंडोक ने साफ किया है कि किसी को भी गुरु घर में अरदास करने की इजाजत नहीं दी जाएगी। केवल ग्रंथी सिंह के अलावा केाई अरदास नहीं कर पाए इसके लिए ऐहतियात बरता जा रहा है। गुरुद्वारों में सिर्फ मत्था टेक सकते हैं।

गुरुद्वारों में शरारती तत्वों एवं समर्थकों पर नजर रखने के लिए पुलिस सादी वर्दी में रहेगी, साथ ही कमेटी के सेवादार भी बहुत चौकसी से निगरानी रखेंगे। खासकर के अशोका रोड पर गुरुद्वारा साहिब की दीवारों के आसपास सेवादारों को लगाया गया है ताकि कोई देश विरोधी दीवारों पर पोस्टर ना लगा सके। वहीं दूसरी ओर कमेटी की तरफ से आज थाना नार्थ एवेंन्यू में एक कथित चिटठी को लेकर शिकायत की गई है। कमेटी का दावा है कि उनके 16 जुलाई के प्रस्ताव को किसी ने पलट कर 17 जुलाई को सोशल मीडिया पर फर्जी चिटठी वायरल की है। जिससे कमेटी के सिख फॉर जस्टिस के समर्थन में जाने का हवाला दिया गया है।
वहीं कमेटी प्रधान मनजिंदर ङ्क्षसह सिरसा और महासचिव हरमीत सिंह कालका ने साफ किया है वह रेफरेंडम 20202 की मुहिम का समर्थन नहीं करते हैं। हमारी पार्टी की स्पष्ष्ट लाइन है कि हम खालिस्तान के समर्थन में नहीं हैं।

खालिस्तान समर्थकों पर कड़ी नजर

सूत्रों के मुताबिक दिल्ली पुलिस भी सोशल मीडिया पर खालिस्तान समर्थन में पोस्ट डालने वाले दिल्ली के नौजवानों पर कड़ी नजर रख रही है। पुलिस के द्वारा इस बारे में खास एहतियात बरतते हुए ऐसे लोगों की सूचियां भी तैयार की गई है , जो की रेफरेंडम 2020 के लिए दिल्ली में कोई हरकत कर सकते हैं। सिख फॉर जस्टिस के समर्थकों के द्वारा भी सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि पंजाब के बाबा बकाला साहिब से सिखों व निहंगों का जत्था इस मुहिम के लिए दिल्ली पहुंचने वाला है।

संयुक्त राष्ट्र में दिया ज्ञापन, पन्नू पर कार्रवाई की मांग

साई मियां मीर फाउंडेशन की तरफ से आज एक प्रतिनिध मंडल संयुक्त राष्ट्र कार्यालय में जाकर एक पत्र कुलदीप सिंह भेागल के द्वारा दिया गया है, जिसमें मांग की गई है कि संयुक्त राष्ट्र दखल देकर अमरीका पर दबाव बनाए कि पन्नू को गिरफ्तार किया जा सके। इस मौके पर परमजीत सिंह चंढोक, इन्द्रजीत सिंह भंडारी, महेन्द्रपाल सिंह गांधी, सर्वप्रीत सिंह थापर, जसकरन सिंह भंडारी मौजूद थे। ज्ञापन में कहा कि सिख फॉर जस्टिस के अध्यक्ष गुरपतवन्त सिंह पन्नू के द्वारा उसके द्वारा सिखों का एक अलग देश खालिस्तान की मांग की गई थी, सांई मियां मीर इंटरनेशनल फाउण्डेशन ने इसकी कड़ी निन्दा की और इस वोटिंग को सिरे से नकारा और इस रेफ्रेन्डम को एक आतंकी हरकत बताया।

खालिस्तान की बात की तो मुहंतोड़ जवाब मिलेगा : आरपी सिंह

भाजपा के राष्ट्रीय सचिव सरदार आरपी सिंह ने कहा कि दिल्ली में खालिस्तान बनाने की बात करने की कोई जुर्रत करेगा तो मुहंतोड़ जवाब मिलेगा। उन्होंने कहा कि वह खुद रविवार को गुरुद्वारा बंगला साहिब एवं गुरुद्वारा शीशगंज साहिब में जाएंगे और निगरानी रखेंगे। आरपी सिंह ने साथ ही कहा है कि दिल्ली कमेटी जिस पत्र को फर्जी होने का दावा करके दिल्ली पुलिस में शिकायत की है, उसकी एनआईए जांच होनी चाहिए। इसके लिए गृहमंत्री से मांग की है।

Tags:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *