LOADING

Type to search

काबुल विश्वविद्यालय पर आतंकी हमला, 25 लोग हताहत

दुनिया

काबुल विश्वविद्यालय पर आतंकी हमला, 25 लोग हताहत

Share

—बंदूकधारियों ने धावा बोल दिया, सुरक्षाबलों के साथ कई घंटे तक मुठभेड़ चली

नई दिल्ली / टीम डिजिटल : अफगानिस्तान के काबुल विश्वविद्यालय पर सोमवार को बंदूकधारियों ने धावा बोल दिया, जिसके बाद सुरक्षाबलों के साथ कई घंटे तक उनकी मुठभेड़ चली, जिसमें कम से कम 25 लोग हताहत हुए। विश्वविद्यालय में पुस्तक प्रदर्शनी लगी थी जिसमें अफगानिस्तान में ईरान के राजदूत भी पहुंचे थे। गृह मंत्रालय के प्रवक्ता तारिक आरियान ने इस हमले में हताहत हुए लोगों की संख्या नहीं बतायी लेकिन स्थानीय मीडिया के अनुसार संभवत: 20 लोगों की जान गयी। आरियान के अनुसार हमले में तीन हमलावर शामिल थे, जो मुठभेड़ में मारे गये। हालांकि, तालिबान ने एक बयान में कहा कि इस हमले में उसका हाथ नहीं है। यह हमला ऐसे वक्त हुआ है जब विद्रोहियों की अमेरिका सर्मिथत सरकार के साथ शांति वार्ता जारी है ।

यह भी पढें…दीपावली एवं छठ पर सभी यात्रियों को मिलेगा कंफर्म टिकट… जाने कैसे

हालांकि, कतर में हो रही इस वार्ता का लक्ष्य अमेरिका को उसकी सबसे लंबी लड़ाई से निकलने में मदद पहुंचाना है लेकिन रोजाना रक्तपात जारी है। इस्लामिक स्टेट से जुड़े एक संगठन ने देश में शियाओं पर हमला शुरू कर दिया है। पांच घंटे तक चली मुठभेड़ के दौरान छिटपुट ग्रेनेड विस्फोट और विश्वविद्यालय के आसपास की सड़कों पर स्वचालित हथियारों से गोलीबारी की आवाज सुनाई दे रही थी। उधर, अफगान सुरक्षार्किमयों ने भी मोर्चा संभाल रखा था। विद्याॢथयो को अपनी जान बचाने के लिए वहां से भागते हुए देखा गया। आरियान ने कहा, दुर्भाग्य से लोग हताहत हुए। लेकिन उन्होंने ब्योरा नहीं दिया। विश्वविद्यालय के छात्र अहमद शमीम ने बताया कि उसने पिस्तौल और कलाशनिकोव राइफलों से लैस आतंकवादियों को गोलियां चलाते देखा। उसके अनुसार विश्वविद्यालय के पूर्वी भाग से हमला हुआ जहां कानून एवं पत्रकारिता विभाग की पढ़ाई होती है।

यह भी पढें…कमलनाथ व टाइटलर के खिलाफ ढिलाई कर रही है CBI तथा SIT

अफगान मीडिया ने खबर दी है कि घटना के समय विश्वविद्यालय में पुस्तक प्रदर्शनी चल रही थी और गोलीबारी के वक्त विशिष्ट व्यक्तियों समेत कई लोग प्रदर्शनी में थे। अफगान अधिकारियों ने पुस्तक मेले की चर्चा नहीं की लेकिन ईरान की अर्धसरकारी इसना संवाद समिति ने रविवार को खबर दी थी कि ईरान के राजदूत बहदोर आमिनियन और सांस्कृतिक अताशे मोजतबा नोरूजी इस मेले का उद्घाटन करने वाले थे, जहां 40 ईरानी प्रकाशकों को हिस्सा लेना है। ईरानी टीवी ने खबर दी कि हमला हुआ लेकिन उसने अपने अधिकारियों के बारे में सूचना नहीं दी। किसी भी संगठन ने इस हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है।

यह भी पढें…मोदी सरकार ने 18 देशद्रोहियों को घोषित किया आतंकवादी

तालिबान ने एक बयान में कहा कि इस हमले में उसका हाथ नहीं है। वैसे शक की सूई इस्लामिक स्टेट की ओर जा रही है। पिछले ही महीने इस्लामिक स्टेट ने राजधानी के शिया बहुल दश्त-ए-बार्ची के एक शिक्षण केंद्र में आत्मघाती बम हमलावर भेजा था, जिसके हमले में 24 विद्याॢथयों की मौत हो गई थी और 100 से अधिक घायल हुए थे। अफगानिस्तान में इस्लामिक स्टेट से संबद्ध संगठन ने शिया मुसलमानों के खिलाफ युद्ध का ऐलान कर रखा है।

Tags:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *