LOADING

Type to search

PM: महिलाओं के सशक्तिकरण का अभियान तेज गति से जारी

वूमेन स्पेशल

PM: महिलाओं के सशक्तिकरण का अभियान तेज गति से जारी

Share

—मां दुर्गा का आह्वान कर पीएम मोदी ने महिला सशक्तिकरण की प्रतिबद्धता दोहराई
-महिलाओं ने शंख बजाकर प्रधानमंत्री का स्वागत बंगाली परंपरा के अनुसार किया

नई दिल्ली /कोलकाता । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मां दुर्गा का आह्वान कर महिला सशक्तिकरण के प्रति अपनी सरकार की कटिबद्धता को दोहराया और कहा कि आत्मनिर्भर भारत अभियान में नारी शक्ति की बहुत बड़ी भूमिका है। पश्चिम बंगाल के सबसे बड़े त्योहार दुर्गा पूजा के अवसर पर राज्य के लोगों से वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से संवाद स्थापित करते हुए प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन के दौरान राज्य की महान विभूतियों को भी याद किया और कहा कि चेतना हो या आध्यात्म, विज्ञान हो या कला और संस्कृति हर क्षेत्र में बंगाल ने देश को प्रगति के मार्ग पर आगे बढ़ाया है। इस कार्यक्रम का सीधा प्रसारण राज्य की सभी 294 विधानसभा सीटों में किया गया। इसमें बड़ी संख्या में महिलाएं मौजूद थीं। प्रधानमंत्री का स्वागत भी महिलाओं ने शंख बजाकर बंगाली परंपरा के अनुसार किया ।

मोदी ने मां दुर्गा को दारिद्र्य दु:ख भय हारिणि और दुर्गति-नाशिनी बताया और कहा कि देश में आज महिलाओं के सशक्तिकरण का भी अभियान तेज गति से जारी है। उन्होंने कहा, चाहे जनधन योजना के तहत 22 करोड़ महिलाओं के बैंक खाते खोलना हो या फिर मुद्रा योजना के तहत करोड़ों महिलाओं को आसान ऋण देना, चाहे बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ अभियान हो या फिर तीन तलाक के खिलाफ कानून। उन्होंने कहा कि बलात्कार की सजा से जुड़े कानूनों को बहुत सख्त किया गया है और दुराचार करने वालों को मृत्युदंड तक का प्रावधान हुआ है। उन्होंने कहा, चाहे गहरी खदानों में भी काम करने की स्वीकृति हो या फिर सेना में परमानेंट कमीशन, देश की नारी शक्ति को सशक्त करने के लिए निरंतर काम किया जा रहा है। प्रधानमंत्री ने महिला सशक्तिकरण को लेकर ये बातें ऐसे समय में कही हैं जब उत्तर प्रदेश के हाथरस में एक दलित युवती के कथित बलात्कार की घटना सहित कुछ अन्य घटनाओं को लेकर महिलाओं की सुरक्षा पर सवाल उठ रहे हैं। प्रधानमंत्री ने कहा, महिलाओं की सुरक्षा को लेकर सरकार सजग है। उन्होंने कहा कि दुर्गा पूजा, भारत की एकता का ही नहीं बल्कि भारत की पूर्णता का भी पर्व है। बंगाल की दुर्गा पूजा भारत की इस पूर्णता को एक नई चमक देती है, नए-नए श्रृंगार देती है। उन्होंने कहा, यह बंगाल की जागरूक चेतना, बंगाल की आध्यात्मिकता का और बंगाल की ऐतिहासिकता का ही प्रभाव है कि बंगाल की पुण्य भूमि से निकले महान व्यक्तियों ने जब, जैसी आवश्यकता पड़ी शस्त्र और शास्त्र, त्याग और तपस्या से मां भारती की सेवा की है। इस कड़ी में उन्होंने रामकृष्ण परमहंस, स्वामी विवेकानंद, चैतन्य महाप्रभु, रवींद्रनाथ टैगोर, बंकिम चंद्र चट्टोपाध्याय, काजी नरुल इस्लाम, सुभाष चंद्र बोस, राजाराम मोहन राय, ईश्वर चंद्र विद्यासागर और श्यामा प्रसाद मुखर्जी जैसी विभूतियों के योगदान को याद किया। उन्होंने कहा, आज के भारत को गढऩे में बंगाल का इतना बड़ा योगदान है, इतने नाम हैं कि सुबह से शाम हो जाएगी लेकिन नाम नहीं खत्म होंगे।

नारी शक्ति की बहुत बड़ी भूमिका है

प्रधानमंत्री ने कहा कि बंगाल के लोगों में ऐसी आत्मशक्ति है जिसके कारण वह हर क्षेत्र में आगे बढ़कर उपलब्धि हासिल करते हैं। बंगाल ने देश को प्रगति के मार्ग पर आगे बढ़ाया है, आज भी बढ़ा रहे हैं और मेरा विश्वास है भविष्य में भी बंगाल के लोग देश का गौरव इसी तरह बढ़ाते रहेंगे।प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत ने आत्मनिर्भरता का जो नया संकल्प लिया है, उस अभियान में भी नारी शक्ति की बहुत बड़ी भूमिका है। उन्होंने कहा,महिषासुर का वध करने के लिए माता का एक अंश ही पर्याप्त था, लेकिन इस कार्य के लिए सभी दैवीय शक्तियां संगठित हो गई थीं। वैसे ही नारी शक्ति हमेशा से सभी चुनौतियों को परास्त करने की ताकत रखती है। ऐसे में ये सभी का दायित्व है कि संगठित रूप से सभी उनके साथ खड़े हों।

कोरोना के संकट के बीच दुर्गा पूजा का उत्सव मनाया जा रहा

मोदी ने कहा कि इस बार कोरोना के संकट के बीच दुर्गा पूजा का उत्सव मनाया जा रहा है। भक्त, पंडालों के आयोजकों सहित सभी ने इस बार अछ्वुत संयम दिखाया है। उन्होंने कहा, संख्या पर भले असर पड़ा हो, लेकिन भव्यता वही है, दिव्यता वही है। आयोजन भले ही सीमित है, लेकिन उत्सव का रंग, उल्लास-आनंद असीमित है। यही तो बंगाल की पहचान है, यही तो बंगाल की चेतना है। यही तो असली बंगाल है। पश्चिम बंगाल में अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं। राज्य में कुल मतदाताओं की संख्या सात करोड़ के करीब है जिनमें से लगभग साढ़े तीन करोड़ महिला मतदाता हैं। सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस के खिलाफ राज्य में भाजपा एक मजबूत प्रतिद्वंद्वी के रूप में उभरी है। भाजपा को भरोसा है कि वह अगले चुनाव में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के 10 सालों के शासन का अंत करेगी। पिछले लोकसभा चुनाव में राज्य की 18 सीटों पर भाजपा ने जीत दर्ज की थी, जबकि तृणमूल कांग्रेस को 22 सीटों पर विजय हासिल हुई थी। भाजपा के आकलन के मुताबिक बड़ी संख्या में महिला मतदाताओं ने इस चुनाव में भाजपा का समर्थन किया था।

Tags:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *