LOADING

Type to search

बेटियों पर बुरी नजर डाली तो UP की धरती पर नहीं मिलेगी जगह

उत्तर प्रदेश वूमेन स्पेशल

बेटियों पर बुरी नजर डाली तो UP की धरती पर नहीं मिलेगी जगह

Share

–छेडख़ानी करने वाले मनचलों, शोहदों की तस्वीर चौराहों पर लगेगी
–महिलाओं और लड़कियों की सुरक्षा, सम्मान के लिए योगी सरकार का बड़ा कदम
–राज्य में “ मिशन शक्ति “ का श्रीगणेश, मुख्यमंत्री ने दिया कड़ाई का संदेश

लखनऊ / टीम डिजिटल : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को “ मिशन शक्ति “   अभियान की शुरूआत की। साथ ही कहा कि राज्य सरकार हर बेटी-हर महिला का सम्मान और सुरक्षा सुनिश्चित करने के साथ-साथ उनके स्वावलंबन के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि जो लोग नारी गरिमा और स्वाभिमान को दुष्प्रभावित करने की कोशिश करेंगे, बेटियों पर बुरी नजर डालेंगे, उनके लिए उत्तर प्रदेश की धरती पर कोई जगह नहीं है। यह लोग सभ्य समाज के लिए कलंक हैं।

उत्तर प्रदेश सरकार ऐसे अपराधियों से पूरी कठोरता से निपटेगी। इनकी दुर्गति तय है। गौरतलब है कि कुछ दिनों पहले बलरामपुर में एक दलित महिला की दो लोगों द्वारा किये गये कथित बलात्कार के बाद मौत हो गयी थी। पुलिस के अनुसार 22 साल की महिला के साथ दो लोगों ने कथित बलात्कार किया था। महिला एक निजी कंपनी में काम करती थी और 29 सितंबर को गंभीर अवस्था में घर लौटी थी। पुलिस ने परिजनों की शिकायत पर दो आरोपियों शाहिद और साहिल को गिरफतार किया था। महिलाओं, बेटियों और बच्चों की सुरक्षा, सम्मान एवं स्वावलंबन के प्रयास को अभियान का रूप देते हुए शनिवार को मुख्यमंत्री जनपद बलरामपुर से प्रदेशव्यापी “ मिशन शक्ति “  का श्री गणेश कर रहे थे।

कोख में बेटियों की हत्या, बाल-विवाह की सार्वजनिक निंदा जरूरी

शारदीय नवरात्र से बासंतिक नवरात्र तक चलने वाले इस अभियान का शुभारंभ करते हुए योगी ने कहा, नारी शक्ति की प्रतीक है। हमारी सनातन परंपरा में नारी पूजनीय है, वंदनीय है। नवरात्रि का अनुष्ठान इसी का द्योतक है। आवश्यकता है कि बदलते दौर में नई पीढ़ी को अपनी सनातन संस्कृति की परंपरा का वाहक बनाएं, उनमें, स्त्री के प्रति सम्मान, सुरक्षा और स्वावलंबन की भावना का प्रसार करें। ‘मिशन शक्ति इसी दिशा में एक प्रयास है।

महिलाओं एवं बेटियों की सुरक्षा एव सम्मान की शुरुआत घर से होने जोर देते हुए योगी ने कहा कि बेटा-बेटी में कोई भेद नहीं है। कोख में बेटियों की हत्या और बाल-विवाह की सार्वजनिक रूप से निंदा होनी चहिए। बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ, मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना, मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना जैसे प्रयासों के माध्यम से केंद्र व राज्य सरकार पूरी मजबूती से बेटियों के उत्थान के लिए से संकल्पित है। मुख्यमंत्री का कहना था कि अपने खिलाफ होने वाली ङ्क्षहसा या अपराध की शिकायत जरूर करें, आपके सामने 1090, 1070, 189, 112 जैसी तमाम विकल्प हर समय उपलब्ध हैं।

मनचलों, शोहदों का होगा सामिजिक बहिष्कार

प्रदेशव्यापी “ मिशन शक्ति “  के पहले चरण में महिलाओं, बेटियों और बच्चों की सुरक्षा व सम्मान सुनिश्चित करते हुए जन जागरूकता का कार्यक्रम चलाया जाएगा। दूसरे चरण मे ‘ऑपरेशन शक्ति के अंतर्गत चिन्हित मनचलों, शोहदों की काउंसङ्क्षलग कराई जाएगी। इसके बाद भी अगर सुधार न हुआ तो जनसहयोग से ऐसे असामाजिक तत्वों के सामाजिक बहिष्कार की कार्रवाई होगी। इनकी तस्वीर चौराहों पर लगेगी। अभियान के तहत महिला हित में कार्य करने वाली संस्थाओं, समूहों और व्यक्तियों को सूची बद्ध करते हुए प्रदेश सरकार सम्मानित करेगी। इस बार रामलीला के मंच और दुर्गा पंडाल भी महिला सशक्तिकरण का संदेश, हर जनपद से 100 रोल मॉडल महिलाएं भी चुनी जाएंगी। मुख्यमंत्री ने महिला सम्बन्धी अपराधों में अभियोजन की कार्यवाही पूरी तैयारी से होगी तथा जल्द से जल्द न्याय के लिए इनकी सुनवाई आवश्यकतानुसार फास्ट ट्रैक कोर्ट में कराई जाएगी। उन्होंने कहा कि महिलाओं की सुविधा और संवेदनशीलता के ²ष्टिगत प्रदेश के सभी थानों और तहसीलों में महिला हेल्प डेस्क की स्थापना की जाएगी। यहां तैनात कर्मचारी भी महिला होगी।

Tags:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *