LOADING

Type to search

UP: दो से अधिक बच्चे हैं तो नहीं लडऩे दिया जाए पंचायत चुनाव

उत्तर प्रदेश राज्य

UP: दो से अधिक बच्चे हैं तो नहीं लडऩे दिया जाए पंचायत चुनाव

Share

–केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान ने यूपी के मुख्यमंत्री को लिखा पत्र
—उत्तराखंड सरकार की पहल का दिया हवाला, हो लागू
—उत्तर प्रदेश में बढ़ती हुई जनसंख्या एक गंभीर समस्या है

नई दिल्ली / टीम डिजिटल : केंद्रीय पशुपालन एवं डेयरी पालन मंत्री डा. संजीव बालियान ने उत्तर प्रदेश में होने वाले पंचायत चुनाव में दो से अधिक बच्चे वालों को पंचायत चुनाव नहीं लडऩे का अधिकार देने की बात कही है। इस बावत केंद्रीय मंत्री ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को शनिवार को एक पत्र भी लिखा है। पत्र के जरिये केंद्रीय मंत्री ने यूपी के मुख्यमंत्री को उत्तराखंड सरकार की पहल का हवाला देते हुए उसी तर्ज पर उत्तर प्रदेश में में भी पंचायत चुनाव लडऩे वाले प्रत्याशियों के लिए यह मानक तय करना चाहिए। जनसंख्या दिवस के मौके पर उन्होंने कहा कि हमारे प्रदेश यूपी में बढ़ती हुई जनसंख्या एक गंभीर समस्या है। जिसके कारण प्रदेश वासियों को प्रदेश की लाभकारी नीतियों, योजनाओं एवं संसाधनों का उपयुक्त लाभ नहीं मिल पाता है।


लिहाजा इस बात की नितांत आवश्यकता है कि सभी लोग एकजुट होकर प्रदेशवासियों को जनसंख्या नियंत्रण के लिए जागरूक करें। साथ ही उन्हें प्रोत्साहित करें कि प्रदेश को जनसंख्या नियंत्रण अभियान का आरंभ करना चाहिए। इसको हम आगामी पंचायत चुनाव से कर सकते हैं। यूपी में होने जा रहे आगामी पंचायत चुनाव में उत्तराखंड राज्य के भांति दो से अधिक बच्चे होने की स्थिति में किसी को भी चुनाव लडऩे का अधिकार नहीं दिया जाना चाहिए। केंद्रीय मंत्री ने यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से आग्रह किया है कि विश्व जनसंख्या दिवस के मौके पर आपके नेतृत्व में जनसंख्या नियंत्रण अभियान की एक अच्छी पहल शुरू कर सकता है।

इसे भी पढें…मायूसी और तनाव के चलते बिखर रहे हैं पति-पत्नी के पवित्र रिश्ते

बता दें कि डा. संजीव बालियान यूपी के पश्चिम उत्तर प्रदेश से रहने वाले हैं, और उन्होंने इस मुद़द पर काम शुरू भी कर दिया है।
बता दें कि उत्तराखंड, राजस्थान, आंध्रप्रदेश, हरियाणा, उड़ीसा, हिमाचल प्रदेश व मध्य प्रदेश में पहले से ही दो से अधिक बच्चे वाले दम्पत्तियों के पंचायत व निकाय चुनाव लडऩे पर प्रतिबंध लागू है। यूपी समेत कुछ अन्य राज्य भी इस राह पर अग्रसर हैं। हालंाकि यूपी सरकार भी इस एजेंडे पर काम कर रही है।

Tags:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *