LOADING

Type to search

2022 में संसद का शीत कालीन सत्र नये भवन में होगा

देश

2022 में संसद का शीत कालीन सत्र नये भवन में होगा

Share

–अगले महीने होगा शिलान्यास, भवन बनाने की प्रक्रिया शुरू
–अक्टूबर 2022 तक बन कर तैयार हो जाएगा नया संसद भवन
–नए भवन में संसद सदस्यों के लिए अलग कार्यालय होंगे
–संसदों के लिए एक लाउंज, लाइब्रेरी, छह समिति कक्ष और डाइनिंग कक्ष भी होंगे
— मौजूदा संसद भवन को संसदीय समारोहों के लिए होगा, सुविधाएं बढ़ेंगी

(खुशबू पाण्डेय)
नई दिल्ली/ टीम डिजिटल : दिल्ली में नये संसद भवन बनाने की प्रक्रिया शुरू हो गई है और अगले महीने इसका औपचारिक शिलान्यस हो जाएगा। इसके बाद स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ के बाद 2022 का शीतकालीन संसद सत्र संसद नये भवन से चलाया जाएगा। लिहाजा, अक्टूबर 2022 तक नया संसद भवन बन कर तैयार हो जाएगा। नए भवन में संसद सदस्यों के लिए अलग कार्यालय होंगे। नए भवन में संसद सदस्यों के लिए एक लाउंज, लाइब्रेरी, छह समिति कक्ष और डाइनिंग (भोजन) कक्ष भी होंगे। सदस्यों के लिए उपलब्ध कराई जाने वाली अन्य सुविधाओं में कक्षों में प्रत्येक संसद सदस्य की सीट अधिक आरामदेह होगी और उसमें डिजिटल सुविधाएं उपलब्ध होंगी जो पेपरलेस कार्यालय की दिशा में एक अग्रणी कदम होगा।

नए भवन के निर्माण कार्य की निगरानी के लिए एक निगरानी समिति का गठन किया जाएगा। इस निगरानी समिति में अन्य व्यक्तियों के साथ साथ लोकसभा सचिवालय, आवासन और शहरी कार्य मंत्रालय, केन्द्रीय लोक निर्माण विभाग, नयी दिल्ली नगरपालिक परिषद के अधिकारी और परियोजना के आर्किटेक्ट/ डिजाइनर भी शामिल होंगे। लोक सभा और राज्य सभा कक्षों के अलावा नए भवन में एक भव्य संविधान कक्ष होगा जिसमें भारत की लोकतांत्रिक विरासत दर्शाने के लिए अन्य वस्तुओं के साथ-साथ संविधान की मूल प्रति, डिजिटल डिस्पले आदि होंगे। आगंतुकों को इस हाल में जाने की सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी ताकि वे संसदीय लोकतंत्र के रूप में भारत की यात्रा के बारे में जान सकें।
जानकारी के मुताबिक मौजूदा संसद भवन को संसदीय समारोहों के आयोजन के लिए अधिक उपयोगी स्थान की व्यवस्था के लिए उपयुक्त सुविधाओं से लैस किया जाएगा, ताकि नए भवन के साथ ही इस भवन का सदुपयोग भी सुनिश्चित हो सके।
लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला के मुताबिक संसद के नये भवन के लिए काम चालू हो चुका है। निर्माण कार्य में इस बात का पूरा ध्यान रखा जाएगा कि वायु एवं ध्वनि प्रदूषण ना हो और ना ही वर्तमान भवन में संसद की कार्यवाही या प्रशासनिक कामकाज बाधित हो। शनिवार की शाम वह पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे।

Tags:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *