LOADING

Type to search

पाक में सिख लड़की का धर्म परिवर्तन पर भड़के सिख

देश पंजाबी न्यूज

पाक में सिख लड़की का धर्म परिवर्तन पर भड़के सिख

Share

-विदेश मंत्रालय का खटखटाया दरवाजा, हस्तक्षेपकी गुहार
-दिल्ली गुरुद्वारा कमेटी ने सौंपा ज्ञापन, भारत करे कार्रवाई
–केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने घटना को बताया शर्मनाक

(पीपी सिंह)
नई दिल्ली, 30 अगस्त
: पाकिस्तान में एक सिख लड़की अपहरण कर जबरन धर्म परिवर्तन कर इस्लाम कबूल कराने और उसे एक मुस्लिम युवक के साथ शादी कराने का मामले सामने आने के बाद भारत के सिख भड़क उठे हैं। साथ ही इस घटना की कड़ी आलोचना की जा रही है। भारत के कई सिख संगठनों ने इसका सख्त विरोध जताते हुए भारत सरकार से हस्तक्षेत की गुहार लगाई है। साथ ही भारतीय विदेश मंत्रालय का दरवाजा भी खटखटाया है। इस मामले में केन्द्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल भी कूद गई हैं। उन्होंने इस घटना को शर्मनाक बताया है। साथ ही कहा कि घटना को उठाया जाएगा और कार्रवाई भी की जाएगी। हरसिमरत कौर ने कहा कि इमरान खान के जो दोस्त अन्य पार्टियों में हैं उन्हें पाकिस्तान के प्रधानमंत्री से यह कहना चाहिए कि ऐसी घटनाओं का अंत होना चाहिए। हालांकि, पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के मुख्यमंत्री सरदार उस्मबाद बुजदार ने जांच के आदेश दिए हैं।


उधर, इस मसले को लेकर दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी का एक प्रतिनिधिमंडल आज विदेश मंत्रालय में सयुंक्त सचिव से मुलाकात की और पाकिस्तान के हालात से रूबरू करवाया। साथ ही हस्तक्षेत की गुहार लगाई। इस मौके पर कमेटी अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा, महासचिव हरमीत सिंह कालका और कमेटी के विदेश मामलों के सलाहकार परमजीत सिंह चंडोक भी शामिल थे। यह घटना पाकिस्तान के श्री ननकाणा साहिब में घटित हुई। यह लड़की श्री तंबु साहिब के ग्रंथी भगवान सिंह की बेटी है। इस घटना से दुनियाभर में बसने वाले सिखों में रोष फैल गया है। मुलाकात के बाद सिरसा ने बताया कि अगर लड़की जल्द से जल्द रिहा न की गई तो फिर सिख लाहौर में गर्वनर हाउस के आगे प्रदर्शन करेंगे। इसके साथ ही कैनेडा, आस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, यू.के व अन्य देशों के सिख प्रतिनिधि को भी अपील किया है कि यह मामला मानवीय आधार होने पर उठायं। उन्होंने यह भी बताया कि हम कल यहां संयुक्त राष्ट्र के अधिकारियों से भी मिलेंगे और उन्हें एक ज्ञापन देकर बतायेंगे कि पाकिस्तान में सिखों के रहने के लिए हालात नहीं हैं और सिख वहां खतरे में हैं।
इस दौरान पाकिस्तान गुरुद्वारा कमेटी के पूर्व अध्यक्ष मस्तान सिंह ने भी सिरसा को बताया कि पाकिस्तान में सिख इतने डर गये हैं कि वह सुरक्षा कारणों से अपने बच्चों को स्कूल व कालेज भी नहीं भेज रहे।

धर्मांतरण करवाने वाले इंसानियत को ही धर्म समझें तो बेहतर होगा : जीके


पाकिस्तान में सिख लड़की के अपहरण व धर्मांतरण की खबर सामने आने के बाद सिखों में रोष की लहर है। दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के पूर्व अध्यक्ष मनजीत सिंह जीके ने कहा कि गुरु तेग बहादर साहिब ने जबरी धर्मांतरण के विरोध में अपनी शहादत दी थी। इसलिए जब भी कहीं से धर्मांतरण की खबर सामने आती है, तो बुरा लगता है। कोई भी धर्म किसी का जबरदस्ती धर्म परिवर्तन करवाने की शिक्षा नहीं देता है। इसलिए धर्मांतरण कहीं भी और किसी का भी हो, उसका डटकर विरोध करना चाहिए। जीके ने कहा कि धर्मांतरण एक तरह से गलत अवस्था में जाने की प्रक्रिया है, इसे धर्म कहना भी धर्म का अपमान है। भारतीय पंजाब में ईसाई मिशनरियों पर लालच देकर तथा पाकिस्तानी पंजाब में दबंग मुस्लिमों पर जबरदस्ती से पंजाबियों के धर्म परिवर्तन करवाने के आरोप हमेशा लगते रहते है। एकमात्र सिख कौम ही है जो किसी को अपने धर्म में आने के लिए कोई लालच या धमकी नहीं देती है।

धर्मांतरण की घटना गलत, कार्रवाई करे सरकार : सरना


शिरोमणि अकाली दल (दिल्ली) के अध्यक्ष परमजीत सिंह सरना ने भी पाकिस्तान में हुए सिख लड़की के जबरन धर्मांतरण को गलत बताया है। साथ ही पाकिस्तान सरकार से मांग की है कि वह मामले की जांच करके दोषियों को सजा दे। सरना ने कहा कि पाकिस्तान में ऐसी कई घटनाएं लगातार सामने आ रही हैं जब हिन्दू, सिख या ईसाई लड़कियों का जरबदस्ती धर्म परिवर्तन करवाकर उसे मुस्लिम युवक के साथ शादी कराई जाती है। सरना के मुताबिक पाकिस्तान के गुरुद्वारा तम्बू साहिब के ‘ग्रंथीÓ की 19 वर्षीय बेटी को कथित तौर पर 27-28 अगस्त को बंदूक की नोट पर उठा लिया गया था। यह घटना बेहद शर्मनाक है।

Tags:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *