LOADING

Type to search

मंजीत सिंह GK को हटाने वाले गुरमीत शंटी अकाली दल में शामिल

दिल्ली देश

मंजीत सिंह GK को हटाने वाले गुरमीत शंटी अकाली दल में शामिल

Share

मंजीत सिंह को कमेटी से हटाने वाले गुरमीत शंटी अकाली दल में शामिल
–अकाली दल अध्यक्ष सुखबीर बादल की मौजूदगी में थामा पार्टी का दामन
–बादल ने सिरोपा डालकर कराई ज्वाइनिंग, बोले- मिलेगा पूरा सम्मान

(लोकेश निरवाल )
नई दिल्ली  : दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के पूर्व अध्यक्ष मंजीत सिंह जीके को गद्दी से उतारने वाले कमेटी के ही सदस्य एवं पूर्व महासचिव गुरमीत सिंह शंटी आज शिरोमणि अकाली दल में शामिल हो गए। दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल की मौजूदगी में गुरमीत शंटी को विधिवत रूप से पार्टी की सदस्यता दिलाई गई। इस मौके पर शंटी के सैंकड़ों समर्थक भी शिरोमणी अकाली दल का दामन थाम लिया। बादल ने दिल्ली गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा , महासचिव हरमीत सिंह कालका की मौजूदगी में उन्हें सिरोपा पहना कर पार्टी में शामिल कराया।

इस मौके पर बादल ने कहा कि गुरमीत शंटी व उनके साथियों को पारिवारिक सदस्यों की तरह रखा जायेगा और उनका पूरा आदर किया जायेगा। बादल ने कहा कि शिरोमणी गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी और दिल्ली गुरुद्वारा कमेटी सांसद के एक्ट के तहत काम करती हैं और लोकतांत्रिक ढंग से होने वाले चुनावों में संगत व कौम ने गुरुघरों की सेवा हमेशा शिरोमणी अकाली दल की झोली में डाली है। उन्होंने कहा कि बेशक कांग्रेस पार्टी ने हर बार चुनावों में किसी ना किसी फ्रंट को खड़ा करके असीधे तौर पर लड़ाई लड़ी पर कौम ने हमेशा शिरोमणी अकाली दल का साथ दिया है। उन्होंने कहा कि शिरोमणी अकाली दल देश की एकलौती शहीदों की पार्टी है। पंजाबियों व सिखों ने इस देश के लिए सब से ज्यादा योगदान दिया हैं काले पानी की सजा पाने वालों में 97 फीसदी पंजाबी थे। साथ ही देश के लिए फांसी की सजा हासिल करने वालों में भी 94 फीसदी पंजाबी व सिख थे।


इस मौके पर गुरमीत सिंह शंटी ने कहा कि शिरोमणी अकाली दल हमेशा हक और सच के पहरे पर खड़ा रहा है। शंटी ने कहा कि पूर्व कमेटी अध्यक्ष मनजीत सिंह जी.के को जब निकाला गया था तो उन्हें खुशी हुई कि अकाली दल के फैसले से उन्हें लड़ाई लडऩे में आसानी हुई। उन्होंने मनजीत सिंह जी.के को कहा था कि वह गुरु की गोलक के पैसे वापस दें व श्री अकाल तख्त साहिब के सामने पेश होकर गलती की माफी मांग लें तो वह केस वापस ले लेंगे पर अहंकार से भरे जी.के ने ऐसा नहीं किया। उन्होंने कहा कि एक सदस्य होने के नाते जो जिम्मेवारी बनती है, उसे पूरा करने के लिए शिरोमणी अकाली दल में शामिल होने का फैसला किया है। शंटी ने पार्टी अध्यक्ष बादल व अन्य लीडरशिप को भरोसा दिलाया कि वह पूरे समर्पण की भावना से पंथ व कौम के लिए काम करते रहेंगे।

सिरसा ने की गुरमीत शंटी की तारीफ

इस मौके पर दिल्ली गुरुद्वारा कमेटी के अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा ने गुरमीत शंटी व साथियों की प्रंशसा करते हुए कहा कि शंटी ने दिखा दिया है कि धक्केशाही के खिलाफ आवाज हमेशा बुलंद हुई है व होती रहेगी। उन्होंने कहा कि धर्म के मामले में सिद्धांतों से कोई समझौता नहीं होना चाहिए तभी तो कौम तरक्की कर सकती है।

शंटी के साथ शामिल हुए प्रमुख लोग

इस मौके पर गुरमीत शंटी के साथ शामिल होने वालों में रविंदर सिंह चावला, बलदेव सिंह गुजराल, सरवजीत सिंह, दरवेश सिंह, दर्शन सिंह चड्डा, भुपिंद्र सिंह, आर.पी सिंह, सुरिंदर सिंह, राजा गुलाब सिंह, मोहन सिंह, मुख्तियार सिंह, जगजीत सिंह, गुरपाल सिंह मादीपुर आदि शामिल थे। इस मौके पर बीबी रणजीत कौर, हरविंदर सिंह के.पी, परमजीत सिंह चंडोक, रमिंदर सिंह स्वीटा, कुलदीप सिंह साहनी, जतिंदर सिंह शंटी, अमरजीत सिंह साहिल फैशन, गुरदेव सिंह भोला सहित पार्टी के अन्य पदाधिकारी मौजूद थे।

Tags:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *