LOADING

Type to search

PM मोदी ने नमामि गंगे मिशन के तहत बिहार को दी बड़ी सौगात

देश

PM मोदी ने नमामि गंगे मिशन के तहत बिहार को दी बड़ी सौगात

Share

-पीएम मोदी ने नमामि गंगे से जुड़े 2 सीवरेज प्लांट का किया उदघाटन
-मुजफ्फरपुर रिवर फ्रंट का भी शिलान्यास

नई दिल्ली/टीम डिजिटल : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बिहार में होने जा रहे विधानसभा चुनावों से ठीक पहले राज्य में सौगातों की भरमार कर दी है। दो दिन पहले तीन बडी परियोजनाओं का शुभारंभ के ऐलान किया था औ आज बिहार में नमामि गंगे अभियान के अंतर्गत अर्बन इंफ्रास्ट्रक्चर से 3 महत्वपूर्ण परियोजनाओं का डिजिटल माध्यम से उद्घाटन और शिलान्यास करते हुए राज्य को एक बड़ी सौगात दी है। इस दौरान प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने पटना नगर निगम के अंतर्गत आने वाले बेऊर क्षेत्र में नमामि गंगे प्रोजेक्ट के तहत बनाए गए 43 MLD सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट के उदघाटन के साथ ही करमलीचक में नमामि गंगे योजना के अंतर्गत बनाए गए एक अन्य 37 MLD के सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट का भी उद्घाटन किया। पूरे पटना नगर की सीवरेज व्यवस्था के लिए नमामि गंगे मिशन के द्वारा 11 परियोजनाओं को मंजूरी दी गयी हैं। इन दोनों एसटीपी बेऊर और करमलीचक के समेत दो अन्य परियोजनाओं का शिलान्यास प्रधानमंत्री ने अक्टूबर 2017 में किया था। इन दोनों के पूरा होने के साथ-साथ 60 MLD सैदपुर एसटीपी का कार्य भी समापन की ओर है।

इसके अलावा, नमामि गंगे योजना के तहत प्रधानमंत्री मोदी ने मुजफ्फरपुर रिवर फ्रंट डेवलपमेंट योजना का भी शिलान्यास किया। इस योजना के तहत मुजफ्फरपुर शहर के तीन घाटों (पूर्वी अखाड़ा घाट, सीढ़ी घाट, चन्दवारा घाट) का विकास किया जायेगा। रिवर फ्रंट पर कई प्रकार की मूलभूत सुविधायें उपलब्ध होगी, जैसेः- चेंजिंग रूम, पाथवे, वाच टावर, इनफार्मेशन कियोस्क, शौचालय आदि. घाटों पर आकर्षक साईनेज, सुरक्षा व्यवस्था और पर्याप्त लाइटिंग भी उपलब्ध होगी।
वहीं, नमामि गंगे के अतिरिक्त प्रधानमंत्री मोदी ने अमृत योजना के अंतर्गत सीवान नगर परिषद में और छपरा नगर निगम के क्षेत्र में अमृत योजना के जरिए वॉटर सप्लाई प्रोजेक्ट लांच होगा। इन दोनों योजनाओं के तहत स्थानीय नागरिकों को चौबीसों घंटे पीने का साफ पानी मिलेगा। कार्यक्रम में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखवात, केन्द्रीय विधि एवं न्याय मंत्री रविशंकर प्रसाद और केन्द्रीय आवास एवं शहरी मामलों के मंत्री हरदीप सिंह पुरी भी मौजूद रहे। इस दौरान कार्यक्रम में नमामि गंगे द्वारा परियोजनाओं के विकास के रोडमैप पर बनाई गई फिल्म को भी प्रदर्शित किया गया।

राष्ट्रनिर्माण के काम में बिहार का बहुत बड़ा योगदान

कार्यक्रम के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा “राष्ट्रनिर्माण के इस काम में बहुत बड़ा योगदान बिहार का भी है। उन्होने कहा कि बिहार देश के विकास को नई ऊंचाई देने वाले लाखों इंजीनियर दे रहा है। बिहार की धरती हमेशा से आविष्कार और इनोवेशन की पर्याय रही है। मोदी ने कहा कि अब केंद्र और बिहार सरकार के साझा प्रयासों से बिहार के शहरों में पीने के पानी और सीवर जैसी मूल सुविधाओं में निरंतर सुधार हो रहा है। नमामि गंगे को लेकर उन्होने बताया कि गंगा से सटे गांवों को गंगा ग्राम बनाया जाएगा, साथ ही नाले के जरिए जाने वाले गंदे पानी को रोका जाएगा। मोदी ने कहा कि बिहार ऐतिहासिक नगरों की धरती है। यहां हजारों सालों से नगरों की एक समृद्ध विरासत रही है। प्रचीन भारत में गंगा घाटी के इर्द-गिर्द आर्थिक, सांस्कृतिक और राजनीतिक रूप से समृद्ध और सम्पन्न नगरों का विकास हुआ।

मुजफ्फरपुर रिवर फ्रंट को विकसित किया जाएगा

पीएम मोदी ने कहा कि गंगा जल की स्वछता का सीधा प्रभाव करोड़ों लोगों पर पड़ता है। अपनी बात को विस्तार देते हुए उन्होने बताया कि आने वाले दिनों मुजफ्फरपुर रिवर फ्रंट को पटना रिवर फ्रंट की तर्ज़ पर ही विकसित किया जाएगा। आज जो बेऊर और करमलीचक की योजना का उद्घाटन हुआ है, उससे इस क्षेत्र के लाखों लोगों को लाभ होगा नमामि गंगे मिशन के तहत बिहार सहित पूरे देश में 180 से अधिक घाटों के निर्माण का काम चल रहा है, जिसमें 130 को पूर्ण किया जा चुका है। उन्होने बताया कि अभी हाल ही में सरकार ने एक प्रोजेक्ट डॉल्फिन की घोषणा भी की है। इस मिशन का बहुत बड़ा लाभ गंगा डॉल्फिन को भी होगा। गंगा नदी के संरक्षण के लिए गांगेय डॉल्फिनए का संरक्षण बहुत ज़रूरी है। पटना से लेकर भागलपुर तक का गंगा जी का पूरा विस्तार डॉल्फिन का निवास स्थान है। इसलिए प्रोजेक्ट डॉल्फिन से न सिर्फ बिहार को लाभ होगा बल्कि गंगा नदी में बायोडायवर्सिटी के साथ-साथ पर्यटन को भी बल मिलेगा।”

मेरे गांव का पानी अब स्वच्छ होगा : नीतीश कुमार

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा “लोगों को शुद्ध जल मिलना बड़ी बात है। उन्होने अपने बारे में बात करते हुये बताया कि बख्तियारपुर जहां मेरा जन्म हुआ वहाँ केवल एक या दो कुंओं का पानी ही स्वच्छ था। साफ पानी के लिए हम सभी ने काफी संघर्ष किया है, इसलिए ये हमारी जिम्मेवारी है कि गंगा नदी के पानी को स्वच्छ रखें। इसके लिए नमामि गंगे सीवरेज प्लांट की स्थापना होनी बहुत जरुरी थी। उन्होने बताया कि नमामि गंगे मिशन बिहार में कई सीवेज ट्रीटमेंट प्लान पर कार्य कर रहा है, और हम इसे शीघ्र ही पूरा करेंगे।

बिहार में मिशन के तहत कुल 54 परियोजनाओं को मंजूरी

बिहार में गंगा नदी का कुल विस्तार 405 किलोमीटर है, जिसपर नमामि गंगे मिशन के अंतर्गत विकास कार्य किया जा रहा है। मिशन के तहत, अबतक कुल 54 परियोजनाओं को मंजूरी दी गयी है। जिसमें सीवरेज इंफ्रास्ट्रक्चर, घाटों, श्मशान और रिवर फ्रंट डेवलपमेंट, वनरोपड़, बायो रीमेडिएशन, ग्रामीण स्वच्छता और नदियों की सतह की सफाई जैसे मुख्य परियोजनाएँ शामिल है। इन विभिन्न योजनाओं के कार्यान्वयन के लिए अबतक कुल 6245 करोड़ रुपये स्वीकृत किया जा चुके हैं। वहीं, इससे पहले नमामि गंगे के सहयोग से पटना में बनाए गए रिवर फ्रंट को अब तक कई राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार हासिल हो चुके हैं। जिसमें वर्ष 2016 में 2A एशिया आर्किटेक्चर अवार्ड, 2017 में विएना में हुआ 2A अवार्ड एक्सिबिशन, 2017 में पुणे डिज़ाइन बिनाले समेत कई पुरस्कार मिल चुके हैं।

Tags:

You Might also Like

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *