LOADING

Type to search

रमजान के पवित्र महीने के दौरान लॉकडाउन व सोशल डिस्टेंन्सिंग का हो पालन

देश

रमजान के पवित्र महीने के दौरान लॉकडाउन व सोशल डिस्टेंन्सिंग का हो पालन

Share

–केंद्र सरकार ने धार्मिक संगठनों, धर्मगुरुओं से की अपील, करें सुनिश्चित
–24 अप्रैल से शुरू हो रहा है रमजान का पवित्र महीना, घरों पर ही करें इबादत एवं तराबी
-सेंट्रल वक्फ कौंसिल ने सभी राज्यों को जारी की एडवाइजरी एवं निदे्रश

(खुशबू पाण्डेय)
नई दिल्ली / टीम डिजिटल : केंद्र सरकार नेे कोरोना के कहर के बीच 24 अप्रैल से शुरू हो रहे रमजान के पवित्र महीने के दौरान भारतीय मुसलमान, लॉकडाउन के दिशा-निर्देशों एवं सोशल डिस्टेंन्सिंग का पूरी ईमानदारी से पालन करें। साथ ही इस दौरान अपने-अपने घरों पर ही इबादत एवं तराबी करें। इस बावत केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि धार्मिक-सामाजिक संगठन एवं धर्मगुरु यह सुनिश्चित करें कि रमजान के महीने में मस्जिदों एवं अन्य धार्मिक स्थलों की जगह लोग अपने-अपने घरों पर रमजान की धार्मिक जिम्मेदारियों को पूरा करें। नकवी ने बताया कि सेंट्रल वक्फ कौंसिल के माध्यम से सभी राज्य वक्फ बोर्डों को निर्देशित किया गया है कि रमजान के पवित्र महीने में लॉकडाउन एवं सोशल डिस्टेंसिंग के दिशा-निर्देशों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित करायें। किसी भी तरह से किसी भी धार्मिक स्थल पर लोगों के इकटठा होने से रोकने के प्रभावी उपाय करने होगें, सभी धार्मिक एवं सामाजिक संगठनों एवं लोगों को, स्थानीय प्रशासन की इस कार्य में मदद लेनी एवं देनी चाहिए।


केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि 8 एवं 9 अप्रैल को शब-ए-बारात के पवित्र मौके पर राज्य वक्फ बोर्डो के प्रो-एक्टिव प्रयासों और सामाजिक एवं धार्मिक लोगों के सकारात्मक कोशिशों से भारतीय मुसलमानों ने शब-ए-बारात के मौके पर अपने घरों पर ही इबादत और अन्य धार्मिक कार्यों को पूरा किया। शब-ए-बारात पर भारतीय मुसलमानों ने कोरोना के कहर को ध्यान में रखकर लॉकडाउन एवं सोशल डिस्टेंन्सिंग का जिस ईमानदारी के साथ पालन किया वह सराहनीय है।
केंद्रीय मंत्री नकवी ने कहा कि कोरोना की चुनौती को ध्यान में रखकर देश के सभी मन्दिरों, मस्जिदों, गुरुद्वारों, चर्चों एवं अन्य धार्मिक स्थलों पर होने वाले धार्मिक कार्यक्रम पूरी तरह रोक दिये गये हैं एवं लॉकडाउन एवं सोशल डिस्टेंन्सिंग का प्रभावी ढ़ंग से पालन किया जा रहा है। गौरतलब है कि कोरोना के कहर के चलते सऊदी अरब सहित अधिकांश मुस्लिम देशों ने रमजान पर धार्मिक स्थलों पर इबादत, इफ्तार आदि पर रोक लगा दी है।


केंद्रीय मंत्री नकवी ने कहा कि हिन्दुस्तान में भी लाखों मस्जिद, दरगाहें, इमामबाड़े, ईदगाहे, मदरसे एवं अन्य धार्मिक स्थल है जहाँ रमजान के पवित्र महीने में इबादत, तराबी, इफ़्तार आदि का आयोजन होता है। यहाँ बड़ी संख्या में लोगों के इक_ा होने की परम्परा रही है। लेकिन, कोराना के कहर के चलते देश भर में लॉकडाउन, कफ्र्यू, सोशल डिस्टेंन्सिंग के दिशा निर्देश केन्द्र एवं सभी राज्यों सरकारों द्वारा लागू किये गए हैं।

घरों में ही रहकर रमजान की सभी धार्मिक कार्यों को पूरा करने चाहिए

नकवी ने कहा कि राज्य वक्फ बोर्डों, धार्मिक-सामाजिक संगठनों एवं अन्य बुद्धिजीवियों को घरों में ही रहकर सोशल डिस्टेंन्सिंग का पालन करते हुए रमजान की सभी धार्मिक कार्यों को पूरा करने हेतु लोगों में जागरूकता पैदा करने के लिए प्रभावी कदम उठाने चाहिए। ऐसा प्रयास केवल मस्जिदों एवं धार्मिक स्थलों में ही नही, बल्कि अन्य सार्वजनिक -व्यक्तिगत स्थलों पर भी सुनिश्चित करने की जरूरत है। जहाँ रमजान के महीने में इफ़्तार, तराबी आदि के लिए लोगों के इकटठा होने की परम्परा रही है।

सोशल डिस्टेंन्सिंग का देश गम्भीरता से पालन

केंद्रीय मंत्री नकवी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अपील पर लॉकडाउन एवं सोशल डिस्टेंन्सिंग का देश गम्भीरता से पालन कर रहा है। हमारी किसी भी तरह की लापरवाही हमारे-हमारे परिवार-पूरे समाज और मुल्क के लिए परेशानी बढ़ा सकती है। हमें करोना के कहर को शिकस्त देने की हर मुहिम, दिशा-निर्देशों का गम्भीरता और पूरी ईमानदारी से पालन करना चाहिए।
बता दें कि राज्यों के वक्फ बोर्डों की रेगुलेटरी बॉडी (नियामक संस्था) सेंट्रल वक्क कौंसिल है। इसके चेयरमैन नकवी हैं। राज्यों के विभिन्न वक्फ बोर्डों के अंतरगर्त देश भर में 7 लाख से ज्यादा पंजीकृत मस्जिदें, ईदगाहें, इमामबाड़े, दरगाहें एवं अन्य धार्मिक संस्थान आते हैं।

Tags:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *