LOADING

Type to search

हरियाणा-महाराष्ट्र में 21 अक्टूबर को होगी वोटिंग

देश

हरियाणा-महाराष्ट्र में 21 अक्टूबर को होगी वोटिंग

Share

केंद्रीय चुनाव आयोग ने विधानसभा चुनाव का किया ऐलान
–एक चरण में होंगे मतदान, 24 अक्टूबर को आएगा रिजल्ट
-बिहार के समस्तीपुर लोकसभा का उपचुनाव भी होगा चुनाव
–सभी चुनाव ईवीएम से कराए जाएंगे, वीवीपैट मशीनें होंगी
— आपराधिक रेकॉर्ड की जानकारी छिपाई तो नामांकन कैंसिल
— प्रत्याशियों के लिए खर्च की सीमा 28 लाख रुपये निर्धारित, रहेगी निगरानी

(खुशबू पाण्डेय)

नई दिल्ली, 21 सितम्बर  : केंद्रीय चुनाव आयोग ने दिल्ली से सटे हरियाणा और महाराष्ट्र में विधानसभा चुनावों की तारीखों का ऐलान कर दिया। 288 विधानसभा सीटों वाले महाराष्ट्र में और 90 सीटों वाले हरियाणा में ही एक ही चरण में मतदान होगा। दोनों राज्यों में 21 अक्टूबर को वोटिंग होगी, जबकि 24 अक्टूबर को वोटों की गिनती की जाएगी। नॉमिनेशन भरने की आखिरी तारीख 4 अक्टूबर को होगी और नामांकन वापस लेने की तारीख 7 अक्टूबर को तय की गई है। यह जानकारी मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने शनिवार को दी। साथ ही बताया कि दोनों राज्यों में 27 सितंबर को अधिसूचना जारी की जाएगी। इसके अलावा अलग-अलग 18 राज्यों की 64 विधानसभा सीटों और बिहार की समस्तीपुर लोकसभा सीट (सुरक्षित) पर उपचुनाव भी 21 अक्टूबर को होगा।

चुनाव की तारीखों के ऐलान के साथ ही दोनों राज्यों में चुनाव आचार संहिता भी लागू हो गई है। अब दोनों राज्यों में कोई नई घोषणाएं नहीं की जा सकेंगी। दोनों राज्यों में सभी चुनाव इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) से कराए जाएंगे। साथ ही वीवीपैट मशीनें भी सौ प्रतिशत लगी होंगी।

हरियाणा में करीब 1.83 करोड़ मतदाता और महाराष्ट्र में 8.9 करोड़ मतदाता इस चुनाव में मतदान प्रक्रिया में भाग लेंगे। महाराष्ट्र में मतदान की प्रक्रिया को पूरा करने के लिए 1.8 लाख ईवीएम का इस्तेमाल होगा, जबकि हरियाणा में 1.3 लाख ईवीएम का इस्तेमाल होगा। महाराष्ट्र में आठ करोड़ 95 लाख मतदाताओं के लिये 95,473 मतदान केंद्र बनाए जाएंगे जबकि हरियाणा में करीब एक करोड़ 83 लाख मतदाताओं के लिये 19,425 मतदान केंद्र बनाए गए हैं। हरियाणा विधानसभा का कार्यकाल 2 नवंबर को और महाराष्ट्र विधानसभा का कार्यकाल 9 नवंबर को खत्म हो रहा है।

मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने बताया कि नामांकन में आपराधिक रेकॉर्ड की जानकारी नहीं देने पर नामांकन रद्द कर दिया जाएगा। आयोग ने कैंडिडेट्स के लिए खर्च की सीमा 28 लाख रुपये निर्धारित की है। चुनावी खर्च की निगरानी के लिए पर्यवेक्षकों की नियुक्ति की जाएगी। चुनाव में हिस्सा ले रहे उम्मीदवारों को अपने हथियार जमा कराने होंगे। इसके अलावा चुनाव आयोग ने प्रचार में पर्यावरण का ध्यान रखते हुए प्लास्टिक का इस्तेमाल न करने की अपील की है।

18 राज्यों की 64 विधानसभा सीटों पर भी उपचुनाव

केंद्रीय चुनाव आयोग ने महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनाव के साथ बिहार की समस्तीपुर लोकसभा सीट पर भी उपचुनाव का ऐलान कर दिया। इसके अलावा 18 राज्यों की 64 विधानसभा सीटों के लिए भी 21 अक्टूबर को उपचुनाव होंगे। इनमें कर्नाटक में 15 सीटों, उत्तर प्रदेश में 11 सीटों, केरल और बिहार में पांच-पांच सीटों, गुजरात, असम और पंजाब में चार-चार सीटों, सिक्किम में तीन सीटों, हिमाचल प्रदेश, तमिलनाडु और राजस्थान में दो-दो सीटों और अरुणाचल प्रदेश, तेलंगाना, मध्य प्रदेश, मेघालय, ओडिशा और पुदुचेरी में एक-एक विधानसभा सीट शामिल हैं। उपचुनावों की अधिसूचना 23 सितंबर को जारी की जाएगी। नामांकन दाखिल करने की अंतिम तिथि 30 सितंबर है, जबकि नामांकन पत्रों की जांच 1 अक्टूबर तक की जाएगी।

हरियाणा की 17 सीटें अनुसूचित जातियों के लिए आरक्षित

मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा के मुताबिक हरियाणा 90 सीटों में से 17 सीटें अनुसूचित जातियों के लिए आरक्षित हैं। राज्य में 1.82 रजिस्टर्ड मतदाता जबकि 1.07 लाख सर्विस वोटर्स हैं। मतदान के लिए 0.38 लाख बैलट बॉक्स, 0.25 लाख कंट्रोल यूनिट्स और 0.27 लाख वीवीपैट मशीनों का इस्तेमाल किया जाएगा। केंद्रीय चुनाव आयोग ने उम्मीदवारों के नामांकन के लिए सख्त दिशा-निर्देश जारी किए हैं। आयोग ने बताया है कि नोटिफिकेशन 27 सितंबर को जारी होगा। नामांकन भरने की आखिरी तारीख 4 अक्टूबर और स्क्रूटिनी की आखिरी तारीख 5 अक्टूबर है। नामांकन वापस लेने की आखिरी तारीख 7 अक्टूबर है।

चुनाव में प्लास्टिक को करें छुटटी, आयोग की अपील

मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने बताया है कि चुनाव के लिए उम्मीदवारों को 28 लाख रुपये ही खर्च करने की इजाजत होगी। साथ ही, चुनावी खर्च की निगरानी के लिए पर्यवेक्षकों की नियुक्ति की जाएगी। अरोड़ा ने राजनीतिक दलों से पर्यावरण का ध्यान रखते हुए प्लास्टिक की जगह ईको-फ्रेंडली सामग्री इस्तेमाल करने को कहा है।

लोकसभा के बाद पहला चुनाव

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में मई में भाजपा को केंद्र में दूसरी बार मिली सत्ता के बाद पहली बार विधानसभा चुनाव हो रहे हैं। विधानसभा चुनाव में भाजपा के प्रचार के प्रमुख मुद्दों में जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को रद्द करने का फैसला भी होगा। लोकसभा चुनावों के बाद यह इस साल के पहले राज्य चुनाव हैं।

चुनाव का विवरण

—————-
नोटिफिकेशन की तारीख-27 सितंबर
नामांकन भरने की आखिरी तारीख -4 अक्टूबर
नामांकन की स्क्रूटिनी की आखिरी तारीख- 5 अक्टूबर
नामांकन वापस लेने की आखिरी तारीख-7 अक्टूबर
मतदान की तारीख–21 अक्टूबर
रिजल्ट की तारीख — 24 अक्टूबर

Tags:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *