LOADING

Type to search

MP की पर्यटन और हस्तशिल्प की पहचान को स्थापित करेंगी नई सड़कें

देश मध्यप्रदेश

MP की पर्यटन और हस्तशिल्प की पहचान को स्थापित करेंगी नई सड़कें

Share

-केन्द्रीय मंत्री गडकरी ने किए 11 हजार 427 करोड़ के मार्गों के लोकार्पण और शिलान्यास
–आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के लिए केन्द्र सरकार करेगी अधिकतम सहयोग

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल : केन्द्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने आज मध्यप्रदेश की अनेक सड़कों के लोकार्पण के साथ ही नए कार्यों के लिए आधारशिला रखी। वर्चुअल कार्यक्रम के माध्यम से कुल 11 हजार 427 करोड़ की लागत से 1361 किमी लम्बाई की 45 सड़क परियोजनाओं के शिलान्यास और लोकार्पण संपन्न हुए। राज्य के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इसमें हिस्सा लिया, जबकि वर्चुअल कार्यक्रम में केंद्र सरकार और प्रदेश के कई मंत्री, सांसद, विधायक भी अलग-अलग स्थानों से इसमें सम्मिलित हुए।
केन्द्रीय मंत्री गडकरी ने नई सड़कों के निर्मित होने और अनेक सड़कों का कार्य चालू होने के लिए प्रदेश की जनता को बधाई देते हुए कहा कि मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री चौहान के नेतृत्व में प्रदेश समृद्ध बनेगा। प्रदेश की सड़क निर्माण की आवश्यकताओं को केन्द्र सरकार द्वारा पूर्ण किया जाएगा।

प्रस्तावों को मंजूरी देकर आवश्यक धनराशि भी प्रदान की जाएगी। मध्यप्रदेश में हस्तशिल्प विकास और पर्यटन की असीम संभावनाएं हैं। आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के निर्माण के लिए उनका मंत्रालय अधिकतम सहयोग प्रदान करेगा। अधिक से अधिक युवाओं को रोजगार मिले और वे प्रदेश के विकास में सहभागी बनें, इसके लिए मध्यप्रदेश के प्रोजेक्ट मंजूर करने में विलंब नहीं होगा। गडकरी ने कहा कि आज जिन मार्गों का लोकार्पण और शिलान्यास हुआ है, उससे आर्थिक विकास की गति को तेज करने में सहयोग मिलेगा। परियोजनाओं से राज्य के मुख्य शहरों से ग्रामीण क्षेत्र तक पहुंच आसान होगी, पर्यटन में वृद्धि होगी, रोजगार निर्माण और किसानों एवं व्यापारियों के साथ ही आम नागरिकों के समय, ऊर्जा और धन की भी बचत हो सकेगी।

मध्यप्रदेश की आर्थिक रफ्तार तीव्र होगी। गडकरी ने आज स्वीकृत परियोजनाओं में से ओरछा में ब्रिज के निर्माण, ग्वालियर-देवास मार्ग, डबरा, जबलपुर, रीवा, भोपाल, साँची, सागर, बीना के कार्यों के लंबे समय से पूर्ण होने की जनप्रतिनिधियों की अपेक्षाओं का भी उल्लेख किया। केन्द्रीय मंत्री ने मध्यप्रदेश को सड़क निर्माण परियोजनाओं और कृषि आधारित लघु उद्योगों के विकास में भरपूर सहयोग कर आत्मनिर्भर भारत के अंतर्गत आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के लिए सभी स्वीकृतियाँ देने का आश्वासन दिया। केन्द्रीय मंत्री गडकरी ने बताया कि भारतमाला योजना के अंतर्गत चंबल अटल प्रोग्रेस-वे के लिए शीघ्र ही आवश्यक प्रक्रिया पूर्ण की जाएगी। यह मार्ग 358 कि.मी. का है। इससे मध्यप्रदेश, उत्तरप्रदेश और राजस्थान की प्रगति तेज होगी। यह एक्सप्रेस-वे मध्यप्रदेश में 309 कि.मी., उत्तरप्रदेश में 17 किमी और राजस्थान में 32 कि.मी. का होगा।

आज का दिन प्रगति का नया अध्याय जोडऩे का दिन :चौहान
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने वर्चुअल लोकार्पण और शिलान्यास कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए मध्यप्रदेश के लिए आज का दिन प्रगति का नया अध्याय जोडऩे का दिन है। मुख्यमंत्री ने गडकरी को जानकारी दी कि आज ही आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश का ड्राफ्ट फायनल हुआ है। मध्यप्रदेश में जलीय परिवहन के संबंध में विचार किया जा रहा है। ओंकारेश्वर और इंदिरा सागर जलाशयों के पर्यटन संबंधी उपयोग के साथ ही एम.एस.एम.ई. सेक्टर में नवीन गतिविधियों का रोडमैप बनाया गया है। प्रदेश के औद्योगिक विकास को इससे बढ़ावा मिलेगा। उन्होंने मध्यप्रदेश में 329 कि.मी. के आठ मार्गों में से दो मंजूर हो गए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि भारत माला परियोजना में बहुत सी सड़कें मध्यप्रदेश से गुजरती हैं जो वरदान बन गईं। चौहान ने कहा कि इन प्रयासों से आज अनेक कीमती जानें बच पा रही हैं।

गडकरी का महत्वपूर्ण सहयोग प्राप्त हुआ :तोमर
केन्द्रीय कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा कि नितिन गडकरी नवीन कल्पनाओं को साकार करने के लिए जाने जाते हैं। मध्यप्रदेश के चम्बल क्षेत्र को बीहड़ से अलग पहचान दिलवाने के लिए प्रोग्रेस-वे की मंजूरी, धार्मिक स्थान शनिचरा के निकट मार्गों के विकास और पूरे प्रदेश के लिए नवीन सड़क निर्माण परियोजनाओं की स्वीकृति में गडकरी का महत्वपूर्ण सहयोग प्राप्त हुआ है। यही नही मोटर व्हीकल एक्ट में संशोधन के महत्वपूर्ण कार्य काय श्रेय भी गडकरी जी को है।

आज हुए लोकार्पण
1. रीवा-मैहर कटनी-स्लीमनाबाद-जबलपुर-लखनादौन फोर लेन, लागत 4348 करोड़, एनएच-30 और 34 लम्बाई 287 किमी

2. ब्यावरा-पचौर-सारंगपुर-शाजापुर-मक्सी-देवास खंड फोर लेन, लागत 1584 करोड़, एनएच-52, लम्बाई 131 किमी.

3. भोपाल-ब्यावरा खंड में लालघाटी से मुबारकपुर, भोपाल आरओबी सहित 6/4 लेन चौड़ीकरण, लागत 374 किमी, एनएच 46 लम्बाई 8 किमी

4. भोपाल-सांची खण्ड में दो लेन, लागत 305 करोड़, एनएच-136, लम्बाई 54 किमी.

5. ग्वालियर-शिवपुरी खण्ड में चार लेन चौड़ीकरण (नौगांव से सतनवाड़ा) लागत-1055 करोड़, एनएच-46, लम्बाई 97 किमी.

6. ग्वालियर-शिवपुर खण्ड में फोर लेन चौड़ीकरण (मोहना टाउन भाग) ग्वालियर-झांसी खण्ड में डबरा टाउन और सिमरिया टेकरी से हरीपुर तिराहा के साथ जौरासी मंदिर पहुंच मार्ग) लागत 79 करोड़, एनएच-46 और 44, लम्बाई 14 किमी.

योजनाएं-जिनका आज शिलान्यास हुआ

1. हरदा-बैतूल चार लेन मार्ग का चौड़ीकरण (चिचौली-बैतूल) लागत 620 करोड़, एनएच-47, लम्बाई 40 किलोमीटर।

2. कटनी बायपास चार लेन चौड़ीकरण – लागत 194, एनएच -30, लम्बाई 20 किलोमीटर।

3. हरदा-बैतूल चार लेन चौड़ीकरण (हरदा टेमगांव) – लागत 555 करोड़, एनएच-47, लम्बाई 30 किलोमीटर।

4. इन्दौर-हरदा- चार लेन चौड़ीकरण (ननासा-पिडगांव)- लागत 867 करोड़, एनएच-47, लम्बाई-47 किलोमीटर।

प्रदेश में 6 मार्गों का सुदृढ़ीकरण कार्य- (लागत-84 करोड़) लम्बाई 172 किलोमीटर

1. इन्दौर-बैतूल एनएच-47

2. अंबुआ से दाहोद एनएच-56

3. गुलगंज-अमानगंज-पवई-कटनी रोड एनएच-43 एक्सटेंशन

4. टीकमगढ़-पृथ्वीपुर-ओरछा रोड-एनएच-539

5. दिनार-पिछोर रोड- एनएच-346

6. सवाई-माधोपुर (राजस्थान) से श्योपुर-गोरस-श्यामपुर रोड-एनएच 552 एक्सटेंशन

इन पुलों का निर्माण कार्य होगा

1. एनएच-539 में बेतवा नदी पर पुल

2. एनएच-45 एक्सटेंशन में जबलपुर-डिण्डोरी पर पुल

3. एनएच-47 इन्दौर-बैतूल खण्ड में क्षिप्रा नदी पर 60 करोड़ की लागत से पुल निर्माण।

सीआरआईएफ में भी 85 करोड़ लागत के 59 किलोमीटर लम्बाई के चार निर्माण कार्य किए जाएंगे।

Tags:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *