LOADING

Type to search

दिल्ली में शराब की बिक्री में भारी गिरावट…जाने क्यूं

दिल्ली देश

दिल्ली में शराब की बिक्री में भारी गिरावट…जाने क्यूं

Share

कोरोना ने दिल्ली में पियक्कडों के रोके ‘कदम ‘
-70 फीसदी टैक्स बनी बड़ी वजह, मई में 58 फीसदी कम हुई बिक्री
–महंगी के चलते पियक्कडों ने यूपी-हरियाणा में किया रुख
–दिल्ली में चार दिनों तक उमड़ी थी भीड़, अब खाली हैं दुकानें
–जनवरी में 11.38 लाख एवं मई में 3.81 लाख पेटी शराब पिया

(खुशबू पाण्डेय)
नई दिल्ली / टीम डिजिटल : कोरोना के चलते हुए लॉकडाउन के बीच दिल्ली में खुली शराब की दुकानों पर कुछ दिनों तक उमड़ी भारी भीड़ के बावजूद शराब की बिक्री में अब तक की सबसे बड़ी गिरावट दर्ज हुई है। सिर्फ राजधानी दिल्ली में मई महीने में 58 प्रतिशत की बिक्री कम हुई है। इसकी सबसे बड़ी वजह दिल्ली में शराब पर 70 फीसदी कोरोना टैक्स लगाना माना जा रहा है। इसके चलते दिल्ली के पियक्कड़ों ने अपना ठिकाना पड़ोसी राज्यों उत्तर प्रदेश एवं हरियाणा में बना लिया है। इन दोनों राज्यों में सिर्फ 10 से 15 प्रतिशत ही शराब की कीमतें बढ़ी हैं। साथ ही शराब लाने एवं ले जाने में कोई दिक्कत भी नहीं है।

दिल्ली के नक्शेकदम पर चलने वाले आंध्र प्रदेश राज्य में भी शराब की बिक्री में 56 फीसदी गिरावट आई है। आंध्र प्रदेश ने दिल्ली के दूसरे ही दिन 75 फीसदी टैक्स शराब पर लगा दिया था। हालात यह हुई कि मई के पहले सप्ताह के बाद शराब की दुकानें खाली पड़ी हैं। दिल्ली में ही यही हाल शराब की दुकानों पर है। अब तो दुकानों का खर्च भी निकालना मुश्किल हो रहा है।
बता दें कि राजधानी दिल्ली में करीब 860 शराब की दुकानें रिटेल में है। इसमें से करीब 60 दुकानें बीयर वाइन की भी हैं।

इसे भी पढें...नेस्ले इंडिया सहित 70 कंपनियों को झटका, CAPF कंटीनों में नहीं बिकेगा प्रोडक्ट

लॉकडाउन के चलते कुछ दिनों तक शराब की दुकानें बंद थी। मई के पहले सप्ताह में खोलना शुरू किया गया। दुकानें खुलने के बाद तीन-चार दिनों तक शराब की दुकानों पर भारी भीड़ और लंबी लंबी लाइनें देखने को मिली। यहां तक की कई जगहों पर लाठीचार्ज तक करना पड़ा। मीडिया में यह खबर सुर्खिया भी बनीं, लेकिन मई के दूसरेा सप्ताह शुरू होते ही बिक्री घटना शुरू गई। कुल मिलाकर मई महीने में मात्र 3.81 लाख पेटी शराब की बिक्री दिल्ली में हुई। जबकि, पिछले वर्ष 2019 में सिर्फ मई महीनें में 9.07 लाख पेटी शराब की बिक्री हुई थी।

इसे भी पढें..UP: गांव की महिलाओं के लिए खुला अनोखा बैंक, घर-घर जाएगा

दिल्ली की तुलना में अगर उत्तर प्रदेश को देखें तो यहां मई 2020 के महीने में 16 लाख पेटी एवं हरियाणा राज्य में 8.50 लाख पेटी शराब की बिक्री हुई है। जबकि, शराब पर 75 फीसदी कोरोना टैक्स लगाने के बावजूद आंध्र प्रदेश में 12.50 लाख पेटी शराब की बिक्री दर्ज हुई है। इन चारों राज्यों में दिल्ली में सबसे ज्यादा शराब बिक्री में गिरावट हुई है।
दिल्ली में लॉकडाउन के पहले की बात करें तो जनवरी 2020 में 11.38 लाख पेटी, फरवरी में 11.48 लाख पेटी एवं मार्च महीने में 8.26 लाख पेटी शराब लोगों ने पिया था। जबकि, अप्रैल महीने में पूरी तरह से बंदी थी। मई के पहले सप्ताह में खुली और कुल मिलाकर 3.81 लाख पेटी की बिक्री दर्ज की गई है।
सूत्रों के मुताबिक लॉकडाउन के चलते काफी दिनों बाद खुली शराब की दुकानों पर पहले ही दिन भारी भीड़ उमड़ी। इसको देखते हुए उत्साहित दिल्ली सरकार ने दूसरे ही दिन शराब पर 70 फीसदी टैक्स ठोंक दिया। इसके बाद दो दिन तक शराब की दुकानों पर लोग दिखे, बाद में खाली हो गई।

गर्मी में ‘ठंडी बियरपीने वाले भी गायब

गर्मी बढऩे के साथ ही मदिरा के शौकीन ठंडी बियर की डिमांड रखते हैं और भरपूर इसका सेवन भी करते हैं। लेकिन, कोरोना और टैक्स के चलते बियर की मांग भी घट गई है। मई 2020 में राजधानी दिल्ली में मात्र 1.25 लाख पेटी बियर की बिक्री हुई। जबकि, मई 2019 की बात करें तो दिल्ली में 18 लाख पेटी बियर दिल्ली वाले गटक गए थे।

दिल्ली के मुख्यमंत्री से गुहार, हटाएं 70 फीसदी टैक्स

शराब कंपनियों की प्रतिनिधि संस्था कनफेडरेशन ऑफ इंडियन अल्कोहलिक बेवरेज कंपनीज, सीआईएबीसी के डायरेक्टर जननल विनोद गिरी, ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को पत्र लिखकर शराब पर से कोरोना टैक्स हटाने की मांग की है। साथ ही कहा है कि उन्होंने पहले ही या आशंका जताई थी कि शराब पर 70 फीसदी कोरोना टैक्स की वजह से आने वाले समय में इसकी बिक्री कम हो सकती है। संगठन ने सरकार से कहा कि टैक्स को एक ऐसे स्तर पर रखा जाए जो संतुलित और व्यावहारिक भी हो। ताकि शराब के खरीदार को भी आर्थिक बोझ ना पड़े। अगर खरीदार पर ज्यादा बोझ पड़ता है तो आने वाले समय में इसका असर कम टैक्स के रूप में सरकार पर भी पड़ेगा। इससे राज्य की आर्थिक स्थिति पर भी विपरीत असर होगा।

आशंका सही साबित हुई : विनोद गिरी

सीआईएबीसी के डायरेक्टर जननल विनोद गिरी ने कहा है कि उन्होंने 6 मई को उपमुख्यमंत्री तथा दिल्ली के वित्त मंत्री मनीष सिसोदिया को एक प्रतिवेदन दिया था। जिसमें उन्होंने कहा था कि अगर लंबे समय तक शराब पर 70 प्रतिशत का कोरोना टैक्स रखा गया तो इससे शराब की बिक्री पर प्रतिकूल असर होगा। इससे शराब की बिक्री कम होगी और राजस्व की भी हानि होगी। आज उनकी आशंका सच हो गई और शराब की बिक्री में भारी गिरावट देखने को मिल रही है।

Tags:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *