LOADING

Type to search

पूर्वांचल व बिहार के लोगों पर दिल्‍ली सरकार ने डाला ‘डोरा’

देश राज्य

पूर्वांचल व बिहार के लोगों पर दिल्‍ली सरकार ने डाला ‘डोरा’

Share

-मैथिली को 8वीं से 12वीं तक वैकल्पिक विषय के रूप में पढ़ाया जाएगा
-दिल्ली के स्कूलों में वैकल्पिक विषय के रूप में पढ़ाई जाएगी मैथिली भाषा
-मैथिली को वैकल्पिक विषय के रूप में लेने वाले स्टूडेंट्स के लिए मुफ्त कोचिंग की व्यवस्था
-मैथिली-भोजपुरी में उल्लेखनीय काम करने वालों को सम्मानित करेगी दिल्ली सरकार
-सम्मान की राशि 1 लाख रुपये से लेकर 2.5 लाख रुपये तक होगी
-नवंबर में कनॉट प्लेस में आयोजित किया जाएगा पांच दिन का मैथिली-भोजपुरी उत्सव

(खुशबू पाण्‍डेय )
नई दिल्ली ( विशेष संवाददाता)।
दिल्ली विधानसभा चुनावों की आहट होते ही दिल्ली सरकार ने भी अपने वोटरों को लुभाने के लिए नई नई स्कीमें शुरू कर दिया है। पहले महिला वोटरों को लुभाने के लिए फ्री मेट्रो सेवा की घोषणा किया। इसके बाद बुजुर्गो को लुभाने के लिए तीर्थ यात्रा स्‍कीम शुरू की। अब दिल्‍ली में सबसे बडे मतदाताओं की कतार में खडे पूर्वांचलियों को लुभाने के लिए आज बडा दांव खेला है। पूर्वांचालियों की दो प्रुमख भाषाएं भोजपुरी एवं मैथिली को सरकारी अमलीजामा पहनाने का ऐलान कर यूपी और बिहार दोनों राज्‍यों के लाखों वोटरों को अपने करीब करने की कोशिश की है। यह भाजपा के लिए बहुत मुश्किल में भी डाल सकता है।
मैथिली और भोजपुरी भाषाओं को बढ़ावा देने के लिए दिल्ली सरकार ने कई अहम फैसले लिये हैं। उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने बताया कि अब स्कूलों में मैथिली को 8वीं से 12वीं तक वैकल्पिक विषय के रूप में पढ़ाया जाएगा। दिल्ली में पढ़ने वाले स्टूडेंट्स अब मैथिली को वैकल्पिक विषय के रूप में लेकर पढ़ाई कर सकेंगे। अब तक स्टूडेंट्स पंजाबी और उर्दू को वैकल्पिक विषय के रूप में पढ़ते हैं।


इसके अलावा आईएएस, अन्य सिविल सेवाओं और अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं में मैथिली विषय को वैकल्पिक विषय के रूप में चयन करने वालों के लिए दिल्ली सरकार फ्री में कोचिंग करवाएगी। संस्कृत अकादमी में हम ये प्रयोग कर रहे हैं और उसे काफी अच्छा रेस्पॉन्स मिल रहा है। मैथिली-भोजपुरी अकादमी की तरफ से मैथिली की फ्री में कोचिंग करवाई जाएगी।

मनीष सिसोदिया ने कहा कि अभी मैथिली का कोई फॉन्ट मौजूद नहीं है। मैथिली का फॉन्ट उपलब्ध कराने की दिशा में दिल्ली सरकार ने एक अहम फैसला लिया है। इसके लिए दिल्ली सरकार सी-डैक से संपर्क कर रही है। सी-डैक से कम्प्यूटर फॉन्ट तैयार करवाकर उसे जनता को उपलब्ध करवाया जाएगा।

मैथिली-भोजपुरी भाषा में काम करने वालों को सम्मान


दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री ने कहा कि अब तक मैथिली-भोजपुरी में उल्लेखनीय काम करने वालों को सम्मान देने की व्यवस्था नहीं है। दिल्ली सरकार ने फैसला लिया है कि अब मैथिली-भोजपुरी भाषा में उल्खेनीय काम करने वाले शख्सियतों को भी सम्मान दिया जाएगा। उर्दू, हिंदी, पंजाबी सबमें अवाड् र्स हैं लेकिन मैथिली, भोजपुरी में साहित्‍य, कला, पत्रकारिता इत्यादि मेंकाम करने वालों के लिए अवॉर्ड नहीं थे। अब मैथिली-भोजपुरी में कला, साहित्य, रंगमंच, शोध, पत्रकारिता के क्षेत्र में उल्लेखनीय काम करने वाली शख्सियतों को सम्मानित किया जाएगा। ये इस प्रकार से हैं

मैथिली-भोजपुरी उत्सव मनाया जाएगा


मनीष सिसोदिया ने बताया कि नवंबर के पहले या दूसरे सप्ताह में कनॉट प्लेस में पांच दिन का मैथिली-भोजपुरी उत्सव मनाया जाएगा। इसके अलावा, पिछले तीन-चार साल से कनॉट प्‍लेस में सितंबर, अक्टूबर, नवंबर में पहले साल हमने उर्दू फेस्‍टिवल कराया था। ये पांच दिन का पहला प्रयोग था जो बहुत पसंद किया गया। पिछले साल हमने संस्‍कृत, पंजाबी और उर्दू तीनों भाषाओं के आर्ट एंड कल्‍चर के फेस्‍टिवल कराये। इनको भी लोगों ने बहुत पसंद किया।

या दूसरे सप्ताह में कनॉट प्लेस में पांच दिन का मैथिली-भोजपुरी उत्सव मनाया जाएगा। इसके अलावा, पिछले तीन-चार साल से कनॉट प्‍लेस में सितंबर, अक्टूबर, नवंबर में पहले साल हमने उर्दू फेस्‍टिवल कराया था। ये पांच दिन का पहला प्रयोग था जो बहुत पसंद किया गया। पिछले साल हमने संस्‍कृत, पंजाबी और उर्दू तीनों भाषाओं के आर्ट एंड कल्‍चर के फेस्‍टिवल कराये। इनको भी लोगों ने बहुत पसंद किया।

भोजपुरी को संविधान की आठवीं अनुसूची में लेकर आएंगे


दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री ने ये भी कहा कि एक अहम बात और भी है कि जब हम मैथिली-भोजपुरी की बात करते हैं तो मैथिली को तो संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल किया गया है लेकिन भोजपुरी को शामिल नहीं किया गया है। आज अगर मैं स्कूलों में भोजपुरी को पढ़ाना चाहूं तो नहीं कर सकता क्योंकि वह संविधान की अनुसूची में नहीं है। इसलिए सीबीएसई के पाठ्यक्रम में भी नहीं कर सकते। मौजूदा केन्‍द्र सरकार जब 2014 में सत्ता में आईथी तब उसने उस वक्त कहा था कि वह भोजपुरी को संविधान की आठवीं अनुसूची में लेकर आएंगे। लेकिन अब तक ऐसा नहीं हुआ। भोजपुरी को अनुसूची में शामिल किया जाएगा। इसके लिए मैथिली-भोजपुरी अकादमी के चेयरमैन के तौर पर मैं केंद्र सरकार को लिख रहा हूं कि वह भोजपुरी को संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल करे।

मैथिली-भोजपुरी में काम करने वालों को सम्मानित करेगी दिल्ली सरकार

  1. शिखर सम्मान (मैथिली) लाइफटाइम अचीवमेंट (2.5 लाख)
  2. शिखर सम्मान (भोजपुरी) लाइफटाइम अचीवमेंट (2.5 लाख)
  3. साहित्यकार सम्मान (मैथिली) ( 1 लाख)
  4. साहित्यकार सम्मान (भोजपुरी) (1 लाख)

5.कला एवं संस्कृति सम्मान (मैथिली) (1 लाख)

  1. कला एवं संस्कृति सम्मान (भोजपुरी) (1 लाख)
  2. पत्रकारिता (मैथिली) (1 लाख)
  3. पत्रकारिता (भोजपुरी) (1 लाख)
  4. समालोचना (मैथिली) (1 लाख)
  5. समालोचना (भोजपुरी) (1 लाख)
  6. अनुवाद (मैथिली) (1 लाख)
  7. अनुवाद (भोजपुरी) (1 लाख)
Tags:

You Might also Like

1 Comment

  1. hi i send my home photo for you. rate please http://bit.ly/2FNHTZm

    Reply

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *