LOADING

Type to search

कांग्रेस ने चीन की एम्बेसी से 90 लाख रुपये रिश्वत ली, BJP ने पूछे सवाल

देश

कांग्रेस ने चीन की एम्बेसी से 90 लाख रुपये रिश्वत ली, BJP ने पूछे सवाल

Share

–भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कांगे्रस और राहुल गांधी से पूछा सवाल
-राजीव गांधी फाउंडेशन को चीन से डोनेशन क्यों मिला?
–मीडिया रिपोर्टो के आधार पर हुए खुलासे पर भडक़ी भाजपा
– 2005-06 में चाइना दूतावास ने कांग्रेस पार्टी को 90 लाख रुपये का डोनेशन दिया

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल : भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने मीडिया रिपोर्टो के आधार पर हुए बड़े खुलासे को आधार बनाते हुए कांगे्रस पार्टी पर करारा हमला बोला है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2005-06 में पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना (People’s Republic of China) दूतावास ने कांग्रेस पार्टी को 90 लाख रुपये का डोनेशन दिया था। इसके बाद राजीव गांधी फाउंडेशन (Rajiv Gandhi Foundation) ने रिसर्च के माध्यम से फ्री ट्रेड की वकालत की और इसे आगे बढ़ाया। ये है कांग्रेस पार्टी और चीन का गुपचुप रिश्ता। लिहाजा, देश जानना चाहता है कि राजीव गांधी फाउंडेशन को किस बात के पैसे दिए गए थे? इस राजीव गांधी फाउंडेशन की चेयरपर्सन सोनिया गांधी हैं। जबकि इसके सदस्य पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, पी चिदंबरम, राहुल गांधी जैसे कांग्रेस के नेता हैं।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि देश के लिए कांग्रेस पार्टी ने इसके एवज में क्या स्टडीज कराई, वह भी देश जानना चाहता है। कांग्रेस की इस हकीकत से पता चलता है कि भ्रष्टाचार के कितने रूप होते हैं, कितने तरीके होते हैं और लोगों को अपने पक्ष में करने के लिए किस तरह साजिशें रची जाती हैं। बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि चीन से डोनेशन कांग्रेस पार्टी ले, चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के साथ कांग्रेस पार्टी समझौता करे, चीन के सामने आत्मसमर्पण करने का काम भी कांग्रेस की सरकार करे और उलटे वही राष्ट्रभक्ति का पाठ पढ़ाने चले, आखिर ऐसा ढोंग ये लोग लाते कहां से हैं!

राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कि कांग्रेस ने गलवान के विषय पर जिस निम्न स्तर की राजनीति की और देश को गुमराह करने का प्रयास किया, उसकी निंदा करता हूँ। उन्होंने कहा कि देश को याद है कि डोकलाम के समय जब हमारे जांबाज जवान सीमा पर चीनी सैनिकों के सामने सीना ताने खड़े थे, तब रात के अंधेरे में राहुल गांधी चुपके-चुपके चीनी राजदूत से मुलाकात कर रहे थे। इस मुलाकात की जानकारी भी कांग्रेस पार्टी द्वारा देश से छिपाई गई लेकिन चीनी दूतावास ने ही तस्वीरें जारी कर कांग्रेस पार्टी की पोल खोल दी थी।

उन्होंने कहा कि एक परिवार की गलती के कारण हमारा लगभग 43,000 किमी का भू-भाग चला गया। ऐसे परिवार और ऐसी पार्टी को देश की सुरक्षा पर बोलने का कोई नैतिक हकनहीं है। ये वही लोग हैं जो चीन से फंड लेते हैं और उनके लिए वैसे स्टडीज प्रकाशित करवाते हैं जिसमें देश का हित नहीं होता और आज वही लोग चीन के खिलाफ खड़े होने का ढोंग रचते हैं।

पार्टी टू पार्टी रिश्ता क्यों बना?

भाजपा अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने कहा कि चीन से डोनेशन कांग्रेस पार्टी ले, चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के साथ कांग्रेस पार्टी समझौता करे, चीन के सामने आत्मसमर्पण भी कांग्रेस की सरकार करे और उलटे वही राष्ट्रभक्ति का पाठ भी पढ़ाने चले, आखिर ऐसा ढोंग ये लोग लाते कहाँ से हैं! नड्डा वीरवार को मध्यप्रदेश जनसंवाद रैली को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि आज कांग्रेस पार्टी से सवाल है कि 2008 में पार्टी ने चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के साथ एमओयू किया, जिसमें राहुल गांधी ने हस्ताक्षर किए और सोनिया गांधी पीछे खड़ी थीं, पार्टी टू पार्टी रिश्ता क्यों बना? कांग्रेस पार्टी यह बताए कि मनमोहन सिंह की सरकार के 10 साल में ऐसे कितनी पार्टियों के साथ एमओयू साइन किए हैं?

डोनर की सूची में कई उद्योगपतियों, पीएसयू के भी नाम

बीजेपी चीफ ने कहा कि राजीव गांधी फाउंडेशन के लिए डोनर की सूची 2005-06 की है। इसमें चीन के दूतावास ने डोनेट किया, ऐसा साफ है। ऐसा क्यों हुआ, क्या जरूरत पड़ी है? इसमें कई उद्योगपतियों, पीएसयू के भी नाम हैं। क्या ये काफी नहीं था कि चीन एम्बेसी से भी रिश्वत ली गई।
उन्होंने कहा कि 2009-11 की रिपोर्ट में बाकी गतिविधियों के साथ-साथ भारत और चीन के बीच एफटीए उचित है, दोनों पक्षों के सहयोग में और संभव भी है। एक व्यापक एफटीए होना चाहिए जिसमें निवेश भी हो और सामानों और सेवाओं का आयात हो। 33 गुना व्यापार घाटा बढ़ गया इनके काल में।

कांग्रेस पार्टी का चीन के साथ इतना प्यार क्यों हुआ

भाजपा अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने कहा कि चीन की एम्बेसी से रिश्वत ली गई। कांग्रेस पार्टी जवाब दे कि चीन के साथ इतना प्यार क्यों हुआ? देश जानना चाहता है कि राजीव गांधी फाउंडेशन को इतना पैसा किस बात के लिए दिया गया था और उन्होंने देश में क्या स्टडी की थी, ये भी देश जानना चाहता है। ये चाइना से फंड लेते हैं और उसके बाद वो स्टडी कराते हैं, जो देश के हित में नहीं, और ये उसके लिए वातावरण तैयार करते हैं। बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि भ्रष्टाचार के बहुत रूप होते हैं, लोगों को अपने पक्ष में करने के बहुत से तरीके होते हैं। लेकिन, आज चाइना के खिलाफ ऐसे खड़े हैं कि इनसे बराबर का कोई प्रहरी ही नहीं हो।

Tags:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *