LOADING

Type to search

बिहार चुनाव: 243 विधानसभा सीटों पर 3 चरणों में होगा मतदान

देश

बिहार चुनाव: 243 विधानसभा सीटों पर 3 चरणों में होगा मतदान

Share

–कोरोना काल में होगा पहला बड़ा चुनाव, 10 नवम्बर को आएगा रिजल्ट
-पहला चरण : 28 अक्टूबर को 16 जिलों की 71 सीटों पर होगी वोटिंग
-दूसरा चरण : 3 नवंबर को 17 जिलों की 94 सीटों पर वोटिंग
-तीसरा चरण : 7 नवंबर को 15 जिलों की 78 सीटों पर होगा मतदान
–बड़ा फैसला, कोविड पॉजिटिव भी डालेगा वोट, आखिरी में समय दिया
— सुबह 7 बजे से शाम 6 बजे तक होंगे मतदान, समय 1 घंटे बढ़ाया

नई दिल्ली / खुशबू पाण्डेय : केंद्रीय चुनाव आयोग ने बिहार विधानसभा के होन वाले चुनाव की तारीखों का ऐलान आज यहां कर दिया। 243 विधानसभा सीटों के लिए मतदान 3 चरणों में होगा। रिजल्ट सभी का एकसाथ 10 नवम्बर को घोषित किया जाएगा। पहले चरण में 16 जिलों की 71 सीटों पर मतदान 28 अक्टूबर को होगा। जबकि दूसरे चरण में 17 जिलों की 94 सीटों पर वोटिंग 3 नवंबर को होगी। इसी प्रकार तीसरे चरण का चुनाव 7 नवम्बर को होगा। इस चरण में 15 जिलों 78 सीटे हैं जहां पर होगा मतदान होगा। सभी सीटों पर मतदान सुबह 7 बजे से शाम 6 बजे तक होंगे। कोरोना के चलते चुनाव आयोग ने इस बार मतदान का समय 1 घंटे बढ़ा दिया है। कोविड काल में हो रहे देश के पहले चुनाव में कोविड मरीज भी वोट डाल पाएंगे, उनके लिए सबसे आखिर में इंतजाम किया गया है। बिहार में मतदाता 7.79 करोड़ मतदाता है, इसमें महिला 3.39 करोड़ महिला मतदाता हैं। केंद्रीय चुनाव आयोग के मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने शुक्रवार को दोपहर बिहार चुनाव कार्यक्रम का ऐलान किया। इसके साथ ही बिहार में कोड आफ कंडक्ट लागू हो गया है। पहले चरण के लिए एक अक्टूबर को अधिसूचना जारी की जाएगी।


मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा के मुताबिक कोरोना काल में बिहार चुनाव के मद्देनजर काफी तैयारी की गई है। एक बूथ पर एक हजार मतदाता होंगे, पोलिंग बूथ पर मतदाताओं की संख्या घटाई गई है। कोरोना काल में सबसे बड़ा चुनाव है। 6 लाख पीपीई किट, 46 लाख मास्क का इस्तेमाल होगा। 6 लाख फेस शिल्ड, 23 लाख ग्लव्स, 47 लाख हैंड सेनेटाइजर की व्यवस्था की गई है। 7 फरवरी 2020 को मतदाता सूची जारी हुई। सीईसी के मुताबिक इस बार मतदान का समय बढ़ाया गया है। सुबह 7 बजे से शाम 6 बजे तक मतदान होंगे। मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने कहा कि ये चुनाव बेहद असाधारण परिस्थितियों में कराए जा रहे हैं और इन परिस्थितयों को ध्यान में रखते हुए सुरक्षा व्यवस्था के साथ साथ स्वास्थ्य संबंधी प्रोटोकोल के संबंध में व्यापक इंतजाम किए गए हैं। चुनाव की घोषणा के साथ ही राज्य में आदर्श चुनाव आचार संहिता लागू हो गई है। एक पोलिंग बूथ पर वोटरों की संख्या 1500 को घटाकर 1000 करने का फैसला किया है। नक्सल प्रभावित इलाकों को छोड़ दिया जाए तो बाकि के इलाकों में मतदान का समय सुबह 7 बजे से शाम 6 बजे तक तय किया गया है।

कोविड मरीज भी डालेंगे वोट, होगी व्यवस्था

कोरोना काल में नए सुरक्षा मानकों के साथ होंगे चुनाव। वोटिंग के अंतिम समय में कोरोना मरीज भी डाल सकेंगे वोट। सीईसी ने कहा कि कोरोना संक्रमण के कारण क्वारंटाइन में रहने वाले मतदाता या तो पोस्टल बैलट से मतदान कर सकते हैं या फिर वे अंतिम चरण के चुनाव के दिन अपने अपने मतदान केन्द्रों में स्वास्थ्य अधिकारियों की देख रेख में मतदान करेंगे।

सियासी दलों के लिए खींची लक्ष्मण रेखा

केंद्रीय चुनाव आयोग ने सियासी दलों के लिए इस चुनाव में लक्ष्मण रेखा खींच दी है। आयोग के मुताबिक राजनीतिक दल के कार्यकर्ता घर-घर जाकर चुनाव प्रचार कर सकेंगे, हालांकि, उनकी संख्या पांच से ज्यादा नहीं होगी। उम्मीदवार को नामांकन के दौरान दो वाहन ही ले जाने की इजाजत होगी। नामांकन पत्र ऑनलाइन भी भरे जा सकते हैं। चुनाव प्रचार और रैलियां सिर्फ वर्चुअल माध्यम से ही होगा।

70 देशों में चुनावों को टाल दिया गया : सीईसी

मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने बताया कि कोरोना संकट की वजह से दुनिया के 70 देशों में चुनावों को टाल दिया गया। कोरोना संकट के बीच बिहार और उपचुनावों को लेकर लगातार मंथन किया गया। बिहार चुनाव देश के सबसे बड़े राज्यों में है और ये चुनाव कोरोना काल का सबसे बड़ा चुनाव है। राज्य में 29 नवंबर तक विधानसभा का कार्यकाल है। इस बार पोलिंग स्टेशन की संख्या और मैनपावर को बढ़ाया गया है। बिहार के कई दलों ने चिंता जताई थी कि कोरोना काल में चुनाव की तारीखों को आगे बढ़ाया जाए। मुख्य आय़ुक्त सुनील अरोड़ा ने बताया कि कोरोना काल में लोगों के स्वास्थ्य और सुरक्षा का विशेष ध्यान रखा जाएगा। चुनाव आयोग इसके लिए पूरी तरह से तैयार है।

पहला चरण :मतदान 28 अक्टूबर
अरोड़ा ने कहा कि पहले चरण के मतदान के लिए अधिसूचना एक अक्टूबर को जारी की जाएगी, नामांकन दायर करने की अंतिम तिथि 8 अक्टूबर होगी जबकि इनकी जांच 9 अक्टूबर को होगी। उम्मीवार 12 अक्टूबर तक नाम वापस ले सकेंगे और मतदान 28 अक्टूबर को होगा। पहले चरण में 16 जिलों में फैली 71 विधानसभा सीटों पर चुनाव होगा जिसके लिए 31 हजार मतदान केन्द्र बनाये गये हैं। बिहार के जिन चर्चित जिलों में पहले चरण में चुनाव होंगे भागलपुर, बांका, मुंगेर, लखीसराय, शेखपुरा, जमुई, खगडिय़ा, बेगूसराय, पूर्णिया, अररिया, किशनगंज और कटिहार आदि शामिल हैं।

दूसरा चरण : मतदान – 3 नवंबर

दूसरे चरण की अधिसूचना 9 अक्टूबर को की जायेगी, जबकि नामांकन दायर करने की अंतिम तिथि 16 अक्टूबर होगी। नामांकन नामांकन पत्रों की जांच 17 अक्टूबर को की जायेगी, नाम वापस लेने की अंतिम तिथि 19 अक्टूबर होगी तथा तीन नवम्बर को वोट डाले जाएंगे। दूसरे चरण में 17 जिलों की 94 सीटों पर मतदान होगा जिनके लिए 42 हजार मतदान केन्द्र बनाये गये हैं। उत्तर बिहार के जिलों चर्चित जिलों में दूसरे चरण में मतदान होगा उनमें मुजफ्फरपुर, सीतामढी, शिवहर, पश्चिमी चंपाण, पूर्वी चंपारण, वैशाली, दरभंगा, मधुबनी, समस्तीपुर, सहरसा, सुपौल और मधेपुरा जिले में शामिल हैं।

तीसरा चरण : मतदान – 7 नवंबर
तीसरे चरण के चुनाव के लिए अधिसूचना 13 अक्टूबर को जारी की जायेगी। नामांकन पत्र 20 अक्टूबर तक दायर किये जा सकेंगे और नामांकन पत्रों की जांच 21 अक्टूबर को होगी। उम्मीदवार 23 अक्टूबर तक नाम वापस ले सकेंगे और मत सात नवम्बर को डाले जाएंगे। तीसरे चरण में 15 जिलों की 78 विधानसभा सीटों के लिए मत डाले जायेंगे जिनके लिए 33 हजार 800 मतदान केन्द्र बनाये गये हैं। तीसरे चरण में प्रदेश की राजधानी पटना, बक्सर, सारण, भोजपुर, नालंदा, गोपालगंज, सिवान, बोधगया, जहानाबाद, अरवल, नवादा, औरंगाबाद, कैमूर और रोहतास आदि शामिल हैं।

——–—महत्वपूर्ण तिथियां-———
पहला चरण : 28 अक्टूबर 2020- 16 जिलों की 71 सीटों पर मतदान
दूसरा चरण : 03 नवंबर 2020- 17 जिलों की 94 सीटों पर मतदान
तीसरा चरण : 07 नवंबर 2020- 15 जिलों की 78 सीटों पर मतदान
चुनाव के नतीजे- 10 नवंबर 2020

——–कोरोना से बचने की तैयारियां——-
–चुनाव में 6 लाख पीपीई किट राज्य चुनाव आयोग को दी जाएंगी
–46 लाख मास्क का इस्तेमाल भी होगा
–7 लाख हैंड सैनिटाइजर का इस्तेमाल किया जाएगा
–6 लाख फेस शील्ड को उपयोग में लाया जाएगा

Tags:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *