LOADING

Type to search

12वीं पास हैं तो कीजिए, राजर्षि टंडन विवि से सीएए, 370 की पढ़ाई

उत्तर प्रदेश देश

12वीं पास हैं तो कीजिए, राजर्षि टंडन विवि से सीएए, 370 की पढ़ाई

Share

—उत्तर प्रदेश राजर्षि टंडन मुक्त विश्वविद्यालय में होगी पढाई
—एकेडमिक काउंसिल की बैठक में सर्वसम्मति से हरी झंडी
—देश का पहला ऐसा विवि है जो ये पाठ्यक्रम प्रारंभ कर रहा है

(विनोद मिश्रा) 
प्रयागराज/टीम डिजिटल: उत्तर प्रदेश राजर्षि टंडन मुक्त विश्वविद्यालय नागरिकता संशोधन अधिनियम(CAA) की पढ़ाई कराएगा। साथ ही छात्र अनुच्छेद-370 और 35ए की पढ़ाई कर सकेंगे। मुक्त विवि में सीएए, अनुच्छेद-370 व 35ए पर पाठ्यक्रम शुरू किया गया है। इन दोनों पाठ्यक्रमों को एकेडमिक काउंसिल की बैठक में सर्वसम्मति से हरी झंडी मिल गई है।  राजर्षि टंडन विवि देश का पहला ऐसा विवि है जो ये पाठ्यक्रम प्रारंभ कर रहा है। उत्तर प्रदेश राजर्षि टंडन मुक्त विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर कामेश्वर नाथ सिंह के मुताबिक
उत्तर प्रदेश राजर्षि टंडन मुक्त विश्वविद्यालय (Uttar Pradesh Rajarshi Tandon Open University) पहला विश्वविद्यालय होगा, जो इस प्रकार के पाठ्यक्रम की पढ़ाई कराएगा। अनुच्छेद-370, 35ए पर तीन माह का जागरूकता पाठ्यक्रम शुरू किया जा रहा है। नए शैक्षणिक सत्र यानी जनवरी-2020 से पाठ्यक्रम लागू कर दिया गया है।

दोनों पाठ्यक्रमों के लिए छात्र-छात्राएं प्रवेश ले सकते हैं। दोनों पाठ्यक्रमों में इंटर पास छात्र-छात्राओं को दाखिला मिल सकेगा। क्षेत्रीय कोऑर्डिनेटर डॉ. रेखा सिंह के अनुसार तीन महीने के इस पाठ्यक्रम में छात्र-छात्राओं को असाइनमेंट दिया जाएगा। कोर्स पूरा करने पर विवि की तरफ से प्रमाण पत्र दिया जाएगा। उनके अनुसार सीएए पाठ्यक्रम को पांच भागों में बांटा गया है। इसमें भारत में नागरिकता एवं अद्यतन संशोधन, अंतरराष्ट्रीय विधि एवं नागरिकता, प्रावधान एवं आधार, अधिनियम एवं उसकी विशेषताएं और अधिनियम का प्रभाव एवं मुद्दे छात्र-छात्राओं को पढ़ाए जाएंगे।

अनुच्छेद-370 और 35ए पाठ्यक्रम को छह हिस्सों में बांटा गया

वहीं, अनुच्छेद-370 और 35ए पाठ्यक्रम को छह हिस्सों में बांटा गया है। इसमें जम्मू-कश्मीर का भौगोलिक व ऐतिहासिक, सामाजिक और आर्थिक परिप्रेक्ष्य, जम्मू कश्मीर का भू-राजनैतिक तथा सामरिक महत्व, भारतीय स्तंभ में पूर्व में विशेष राज्य के दर्जे का स्थान तथा अनुच्छेद-370 तथा 35ए, राज्य में हिंसा और आतंकवाद, अनुच्छेद-370 का समापन एवं राज्य का जम्मू-कश्मीर तथा लद्दाख नाम से दो केंद्र शासित प्रदेश का गठन और अखंड भारत के निर्माण में जम्मू-कश्मीर का पूर्ण विलय : एक महत्वपूर्ण उपलब्धि शामिल है।

101 नए पाठ्यक्रम शुरू

उत्तर प्रदेश राजर्षि टंडन विवि इस सत्र से 101 नए पाठ्यक्रम शुरू कर रहा है। सभी पाठ्यक्रमों में प्रवेश की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। मेरठ क्षेत्रीय कार्यालय के तहत आने वाले अध्ययन केंद्रों में अभ्यथी ऑनलाईन प्रक्रिया के जरिए प्रवेश ले सकते हैं। सीएए, अनुच्छेद 370, अनुच्छेद 35ए पर प्रमाणपत्र कार्यक्रम प्रारंभ किए गए हैं। इन पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए कोई भी बारहवीं पास अभ्यर्थी भाग ले सकता है। इन पाठ्यक्रमों का उद्देश्य युवाओं में इन सभी गंभीर मुद्दों के प्रति जागरुकता फैलाना है। इन पाठ्यक्र मों में प्रवेश के लिए कोई आयु सीमा तय नहीं है। अधिक जानकारी के लिए विवि की बेवसाइट पर या टोल फ्री नंबर पर संपर्क कर सकते हैं।

12वीं पास ले सकता है प्रवेश

अब इन कोर्सों के एडमिशन जनवरी के सत्र में किए जाएंगे इसमें 12वीं पास कोई भी व्यक्ति प्रवेश ले सकता है। अनुच्छेद 370, 35 ए और सीएए पर पूरे देश में मचे सियासी भूचाल के बीच ये तीनों फैसले यूनिवर्सिटी कोर्स का हिस्सा बन गए हैं।
ये तीनों विषय सर्टिफिकेट कोर्स होंगे। इसमें इंटर के बाद कोई भी व्यक्ति 500 रुपये फीस जमा कर प्रवेश ले सकता है। इसमें ऑनलाइन प्रवेश शुरू हो गए हैं।
वहीं, एक दूसरे बड़े फैसले के तहत केंद्र सरकार ने नागरिकता कानून में संशोधन किया है। संशोधित कानून केवल हिंदू, सिख, जैन, बौद्ध, पारसी और ईसाई विदेशियों के लिए प्रासंगिक है, जो पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से भारत में 31.12.2014 तक धार्मिक उत्पीड़न के आधार पर पलायन कर चुके हैं। यह मुसलमानों सहित किसी भी अन्य विदेशी पर लागू नहीं होता है।

Tags:

You Might also Like

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *