LOADING

Type to search

BJP के पूरे टीम की ओवरहॉलिंग करना चाहते थे अमित शाह…जाने क्यों

देश

BJP के पूरे टीम की ओवरहॉलिंग करना चाहते थे अमित शाह…जाने क्यों

Share

अमित शाह के स्वस्थ्य होने के बाद फाइनल हुई बीजेपी की नई ‘ फौज  
–लंबे समय से विवादों में घिरे नेताओं से बीजेपी ने काटी कन्नी
–सरकार में शामिल होने के लिए भी कुछ नेता कर रहे थे लॉबिंग

(खुशबू पाण्डेय)

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल : भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय टीम का ऐलान भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा के द्वारा शनिवार को भले ही किया गया हो, लेकिन उसे अंतिम रूप पाटी्र के पूर्व अध्यक्ष अमित शाह के द्वारा किया गया है। अमित शाह के बीमारी के चलते लिस्ट जारी नहीं हो सकी थी। अब जब वह पूरी तरह से स्वस्थ्य हो गए तब शनिवार को इसे जारी किया गया। टीम में जिन लोगों को शामिल किया गया है उन्हे राज्य, जाति, धर्म और चुनावों के समीकरणों को देखते हुए किया गया है। सूत्रों की माने तो नई टीम में किसी भी पुऱाने पदाधिकारियों को दोबारा नहीं रखने की तैयारी थी, लेकिन सियासी समीकरणों और हालात को देखते हुए कुछ लोगों को दोबारा रिपीट करना पड़ा है। मसलन, मध्य प्रदेश में होने वाले 28 सीटों पर उपचुनावों के चलते वरिष्ठ नेता कैलाश विजयवर्गीय को नहीं छेड़ा गया है। हालांकि वह पश्चिम बंगाल के प्रभारी भी हैं। लेकिन असली वजह उपचुनाव बताया जा रहा है। जबकि भाजपा के लिए किरकिरी बन चुके दो दिग्गजों पूर्व महासचिवों राम माधव एवं मुरलीधर राव को इसलिए पद से हटाया गया, क्योंकि वह लंबे समय से विवादों में घिरे हुए थे।
सूत्रों की माने तो एक अन्य महासचिव केंद्रीय सरकार में आना चाहते थे, जिसके लिए वह लंबे समय से लाबिंग कर रहे थे। हालंकि, पार्टी हाईकमान एवं सरकार की तरफ से हरी झंडी उन्हें नहीं मिली। इसी प्रकार महाराष्ट्र में पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फर्डविस और पंकजा मुंडे के बीच छिड़ी सियासी जंग में पार्टी ने देवेंद्र को दरकिनार करते हुए पंकजा को राष्ट्रीय टीम में जगह दी है।

भाजपा संगठन में पूरी टीम ही बदल देना चाहते थे अमित शाह

सूत्रों की माने तो भाजपा के पूर्व अध्यक्ष अमित शाह भाजपा संगठन में पूरी टीम ही बदल देना चाहते थे। साथ ही संगठन में बहुत ज्यादा सक्रिय नेताओं की छुटटी के पक्ष में थे। उनका इशारा साफ था कि युवा, तेज तर्रार महिलाएं, काम करने वाले नेता चाहे किसी भी राज्य से जुडे क्यों ना हो, उनकी सहभागिता पार्टी संगठन में होनी चाहिए। युवा लोग होंगे तो नई उर्जा के साथ काम भी तेजी आएगी और पार्टी का विस्तार भी तेजी से होगा। सूत्रों की माने तो अमित शाह जैसी टीम चाहते थे, ठीक वैसा ही विस्तार किया गया है और जिन राज्यों का कभी एक भी नाम नहीं होता था उन छोटे—छोटे राज्यों के नेताओं को नेशनल टीम में जगह दी गई है। नेशनल उपाध्यक्ष एवं नेशनल महासचिव की लिस्ट में कई नाम ऐसे हैं, जो जमीन से जुडे हैं ओर राजनीति में उनका कोई गॉडफादर नहीं है।

जमीन से जुडे नेताओं को तरजीह, किसी का कोई गॉडफादर नहीं

बीजेपी के एक वरिष्ठ नेता की माने तो अब तक राष्टीय टीम में ज्यादातर लोग 50 साल से अधिक उम्र के होते रहे हैं, लेकिन जब से पार्टी की कमान अमित शाह ने संभाली है, पूरी तस्वीर ही बदल डाली है। पंजाब, असम जैसे छोटे राज्य से पहली बार कोई नेता राष्टीय महामंत्री जैसे बडे पद पर काबिज हुआ है, ऐसा पहले कभी संभव नहीं होता था। अब तक दिल्ली की सत्ता गलियारों के इर्द गिर्द रहने वालों को ही मौका मिलता रहा है। लेकिन शनिवार को जारी हुई नेशनल टीम को देखने को बाद राजनीति के सभी पंडितों को भी विश्लेषण करने के लिए एक बार सोचना पडेगा।

संगठन महासचिव बीएल संतोष की छाप भी दिखी

भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा की नई टीम पर संगठन महासचिव बी एल संतोष की छाप साफ दिखाई दे रही है। केवल सी टी रवि ही नहीं, उनके एक अन्य करीबी माने जाने वाले केवल 29 साल के युवा सांसद तेजस्वी सूर्या को भी बड़ी जिम्मेदारी दी गई है। उन्हें पूनम महाजन की जगह युवा मोर्चा का अध्यक्ष बनाया गया है। बता दें कि अनंत कुमार के निधन के बाद जहां उनकी पत्नी उनकी लोक सभा सीट बैंगलुरु दक्षिण से दावेदार थीं वहां संतोष के दखल के बाद उनकी जगह तेजस्वी सूर्या को टिकट दिया गया था।

जेटली व रविशंकर के बाद तीसरे नेता बने अनिल बलूनी

राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी जेपी नडडा की टीम में भी भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय मीडिया प्रमुख बने। वह ऐसे तीसरे मीडिया विभाग के पदाधिकारी हैं जिन्हें मीडिया प्रमुख के साथ मुख्य प्रवक्ता का भी दायित्व दिया गया है। इससे पूर्व स्वर्गीय अरुण जेटली और रविशंकर प्रसाद मीडिया विभाग के प्रमुख के साथ-साथ मुख्य प्रवक्ता की दोहरी जिम्मेदारी संभाल चुके हैं। बलूनी की वर्तमान टीम में 8 सांसद, दो विधायक और तीन पूर्व कैबिनेट मंत्री आज घोषित किए गये। प्रवक्ता बनाए गए राज्यवर्धन सिंह राठौर, शाहनवाज हुसैन व राजीव प्रताप रूडी तीनों पूर्व कैबिनेट मंत्री हंै।

प्रधानमंत्री मोदी ने नई टीम को दी बधाई

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारतीय जनता पार्टी की नई टीम को बधाई और भविष्य के लिए शुभकामनाएं दी हैं। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि मुझे विश्वास है कि आप सभी निस्वार्थ भाव से और पूरे समर्पण के साथ भारत के लोगों की सेवा करने की हमारी पार्टी की गौरवशाली परंपरा को बनाए रखेंगे।

हटाए गये बुजुर्ग नेता बन सकते हैं राज्यपाल

भाजपा की नई टीम से हटाए गए वरिष्ठ एवं बुजुर्ग एवं वरिष्ठ नेताओं में से कुछ लोग जो अभी पार्टी संगठन में एक्टिव हैं उन्हें राज्यपाल बनाया जा सकता है। इसमें पंजाब के अविनाश राय खन्ना, ओम माथुर, प्रभात झा, आदि लोग शामिल हैं। ये सभी लोग राष्ष्ट्रीय उपाध्यक्ष थे। इसके अलावा राजनीति की मुख्य धारा से हट गईं उमा भारती जैसे लोगों को पार्टी अब जगह नहीं देगी।

Tags:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *