Wednesday, 13 December 2017
Blue Red Green

सावधान! आपके आंखों की रोशनी ना छीन लें आईलाइनर

सावधान! आपके आंखों की रोशनी ना छीन लें आईलाइनर

टोरंटो: कजरारी आंखें सोलह श्रृंगार का एक हिस्सा हैं, लेकिन महिलाओं की आंखों को मनमोहक बनाने वाला आईलाइनर उनके लिए घातक हो सकता है। एक नए अध्ययन में चेतावनी दी गई है कि आंखों की पलकों के अंदर और बाहर लगाया जाने वाला आईलाइनर आंखों की रोशनी पर असर डाल सकता है। यह ऐसा पहला अध्ययन है जो साबित करता है कि पेंसिल आइलाइनर लगाते समय इसके कण आंखों में जाते हैं।

 

 

शोध करने वालों ने इसका अध्ययन करने के लिए वीडयो रिकॉर्डिंग का प्रयोग किया। कई तरह से उन्होंने मेकअप किया और फिर तुलना करके देखा कि आइलाइनर के कण कितनी मात्रा में आंखों की अश्रु झिल्ली पर पहुंचते हैं। अश्रु झिल्ली आंखों पर एक पतली परत के रूप में विद्यमान रहती है जो आंखों की सुरक्षा करती है।

वाटरलू विश्वविद्यालय के विज्ञानी डॉक्टर एलिसन नग ने बताया, ‘हमने अध्ययन में पाया कि मेकअप करने से आंखों में आइलाइनर के कण जाते हैं और जब आइलाइनर को आंख की पलकों की अंदर की तरफ लगाया जाता है तो ये ज्यादा तेजी से आंख के अंदर जाते हैं।’ इस अध्ययन में भाग लेने वाले हर प्रतिभागी ने पहले पलकों के बाहर की तरफ चमकते (ग्लिटर) आइलाइनर का प्रयोग किया और बाद में आंख से ज्यादा नजदीक रहने वाली पलकों की अंदरूनी ओर और काजल वाली तरफ भी इसे लगाया।

दृष्टि विज्ञानियों ने पाया कि अंदर की ओर आइलाइनर लगाने पर पांच मिनट के भीतर 15 से 30 प्रतिशत ज्यादा कण आंखों की अश्रु झिल्ली पर पहुंच गए। यह शोध आई एंव कांटैक्ट लैंस साइंस एंड क्लीनिकल प्रैक्टिस जर्नल में प्रकाशित हुआ है।

बड़े स्तनों ने करवाया अपमान..!

वॉशिंगटन डीसी। एक किशोरी को अपने प्रॉम (औपचारिक डांस) से इसलिए अलग कर दिया गया क्योंकि उसके स्तन बहुत बड़े हैं। किशोरी का कहना है कि उसने अपने आप को बहुत ही अपमानित महसूस किया।वह इस बात को लेकर दुखी है कि जो रात उसके जीवन की अच्छी रातों में से एक हो सकती थी, उसी रात को उसकी सारी खुशियां छीन ली गईं।

सिल्वरडेल, वॉशिंगटन की ब्रिटनी मिंडर ने अपने स्कूल में डांस करने के लिए मोतियों से सजी, स्ट्रैपलेस, पर्पल ( जामुनी रंग की) ड्रेस तैयार करवाई थी। ड्रेस को तैयार करवाते समय इस बात का ध्यान रखा गया कि यह विशेष रूप से बड़े वक्षों वाली लड़की के लिए होद, लेकिन जब वह डांस के लिए पहुंची तो उससे कहा गया कि वह इस ड्रेस में अंदर नहीं आ सकती है।

उससे कहा कि स्कूल के निदेर्शों के अनुसार उसे तभी अंदर आने दिया जाएगा जब वह अपने बड़े स्तनों को किसी कपड़े से ढंक ले।
दुखी ब्रिटनी ने अपनी व्यथा सुनाई और कहा कि मेरी समझ में ऐसा इसलिए किया गया है क्योंकि मेरे वक्ष बहुत बड़े हैं। जितने आप देख रहे हैं, ये उनसे भी ज्यादा बड़े हैं, लेकिन इसको लेकर वास्तव में मैं कुछ नहीं कर सकती हूं।

उसे स्कूल का ड्रेस कोड समझाया गया कि वह स्ट्रैपलेस तभी पहन सकती है जबकि उस ड्रेस में उसके वक्ष, वक्षों से नीचे कमर तक का भाग और पीठ का निचला हिस्सा पूरी तरह से ढंका रहे। पर दुर्भाग्य से ब्रिटनी के मामले में ऐसा नहीं था।

ब्रिटनी के माता-पिता, किम और गैरी भी इस अपमान से बेहद आहत हैं और उनका मानना है कि मात्र शारीरिक संरचना के आधार पर उनकी बेटी की खुशी का एक मौका छीन लिया गया।

गैरी मिंडर का कहना है कि यह पूरी तरह से स्पष्ट था कि स्कूल इस तरह के नियम लागू करने के मामले में ईमानदार नहीं था। पर अब यह सब बताया जा रहा है। ब्रिटनी के पालक चाहते हैं कि स्कूल प्रशासन उनकी बेटी से लिखित माफी मांगे।
उसके पिता का कहना है कि ब्रिटनी जैसी लड़की को एक नाचने के लिए टाट के बोरे में जाने की जरूरत नहीं होना चाहिए। उसकी मां किम का कहना है कि सभी महिलाओं को एक जैसा पैदा नहीं किया गया है। और आप गॉल्फ की बॉल की तुलना में एक अंगूर से नहीं कर सकते हैं। ऐसा नहीं हो सकता है।

ब्रिटनी अपने औपचारिक नाच के स्थान पर एक घंटे तक रुकी रही क्योंकि उसके शरीर के चारों ओर एक शॉल लपेट दिया गया था, लेकिन फिर उसने महसूस किया कि उन लोगों ने उस रात की सारी सुंदरता को खत्म कर दिया था। वहां जो कुछ हुआ था, उसके बाद वहां खड़े रहना मेरे लिए तकलीफदेह हो गया था। यह मेरे सम्मान पर चोट थी इसलिए मैंने वहां पर अधिक समय तक रुकना ठीक नहीं समझा।

सेक्स के लिए कब लालायित रहती है महिला

महिला हो या पुरुष, सेक्स को लेकर तरह-तरह के शोध हुए हैं। इनके निष्कर्ष भी कम रोचक नहीं होते हैं। इसी तरह महिलाओं को लेकर बहुत सारे शोध हैं, जो कुछ सामान्य हैं तो कुछ असामान्य हैं।

शोध के अनुसार एक महिला तब सेक्स के लिए बहुत अधिक लालायित होती है जब उसमें अंडोत्सर्ग (ऑव्यलेशन) की प्रक्रिया चरम पर होती है। इसी तरह से जब महिला का मासिक चक्र शुरू होता है तब उनकी कामुकता शीर्ष पर होती है।

क्या चॉकलेट और यौन आकर्षण में कोई समानता है, सवाल चौंकाने वाला हो सकता है, लेकिन शोध के निष्कर्ष तो इसी ओर इशारा करते हैं। कुछ समय पहले शोधकर्ताओं ने बताया कि फील गुड फीलिंग्स के मामले में चॉकलेट और सेक्सुअल अट्रैक्शन समान हैं।

दोनों में ही एक रसायन पाया जाता है, जिसमें फिलाइलएथिलामाइन पाया जाता है। इसलिए लोगों को जितना मजा यौन आकर्षण और प्यार में आता है वही मजा चॉकलेट भी देती है।

महिलाओं की पर्सनेलिटी पर्स से जाने!

महिलाओं को पर्स न सिर्फ आपको स्टाइलिश लुक देते हैं, बल्कि ये आपकी पर्सनेलिटी को भी दर्शाते हैं। आप किस तरह और किस स्टाइल का पर्स इस्तेमाल करती हैं, इससे आपके व्यक्तित्व का अंदाजा लगाया जा सकता है,तो आप भी जानिए कुछ दिलचस्प बातें अपनी पर्सनेलिटी और अपने पर्स के बारे में।

होबो यानी बडे बैग्ज - ऎसे बैग्स जिनमें बहुत सा सामान आ सके, लगभग आपकी जरूरत का सारा सामान।

ऎसे हैंडबैग्स इस्तेमाल करने वाली महिलाएं प्रेक्टिकल अप्रोच वाली होती हैं और उनकी जिन्दगी में बहुत कुछ होता है।

इन महिलाओं की दिलचस्पी कई चीजों में होती है और इन्हें जीवन में रूकना बिल्कुल भी पसन्द नहीं। इन्हें जीवन में गतिशीलता पसन्द होती है और इन्हें सब कुछ परफेक्ट चाहिए होता है ।

स्लिंग बैग्ज - ये शोल्डर स्ट्रैप वाले छोटे बैैग्स होते हैं इस तरह के बैग्स की शाकीन महिलाएं दिल से बेहद कोमल होती हैं, लेकिन बात जब किसी और पर आती है, तो ये प्रोफेशनल रवैया अपनाने से भी नहीं कतरातीं।

इस बैग का सॉफ् ट लुक इसे इस्तेमाल करने वाली महिलाओं की फ्रेंडली पर्सनेलिटी में साफ नजर आता है। ये अपने ख्वाबों की दुनिया में जीतीं हैं। इनके पास काफी आइडियाज भी होते हैं, जिन पर ये वाकई अमल करना चाहती हैं।

चूंकि इनका बैग छोटा होता है,तो ऎसे में इसे इस्तेमाल करने वाली महिलाएं ये अच्छी तरह जानती हैं कि इन्हें क्या चाहिए।

बाउलिंग बैग्ज -जो महिलाएं इस तरह के बैग्स पसन्द करती हैं, वे काफी स्ट्रांग पर्सनेलिटी की होती हैं और उन्हें किसी भी तरह से बेवकूफ नही बनाया जा सकता। ये महिलाएं ट्रेंड फॉलो करने में विश्वास नहीं करतीं और अपना स्टाइल खुद बनाती हैं।

इनकी दिनचर्या खुशी-खुशी अपने काम करने, दोस्तों और फै मिली के साथ बीतती है। ये जो भी करती हैं, उस पर पूरी तरह से नियन्त्रण होता है, ये लोगों से प्यार करने वाली होती हैं, इसीलिए इनके पास दोस्तों की कोई कमी नही होती।

क्लच-क्लच कैरी करने वाली महिलाएं काफी क्लासी होती हैं और इन्हें एलीगेन्स पसन्द होता है। जिस तरह से ये अपने क्लच को हाथों में जक़डे रहती हैं, उसी तरह से जो चीजें इनके दिल के करीब हाती हैं, उन पर भी पूरा नियन्त्रण चाहती हैं।

ये काफी कॉन्फिडेन्ट होती हैं और बेहद आकर्षक भी। ये अच्छी तरह से जानती हैं कि किस तरह से लोगों को इंप्रेस करना है। अपने दोस्तों से भी इनका व्यवहार काफी अच्छा रहता है। अपने रिश्तों को पूरी ईमानदारी से निभाती हैं।

रसीलें होठ से झलकता है आपका सेक्सी स्वभाव!

हम आपको अपने आलेख "काली आंखो व छोटी नाक वाली महिलाएं होती है सेक्सी" में आकृति विज्ञान के बारे में जानकारी दे चुके है। आइये इसी श्रृंखला को आगे ब़डाते हुए आज जाने कि कैसे होठ, आइब्रो और ठो़डी भी आपके स्वभाव व व्यक्तिव की जानकारी देते है। ज्यादातर पुरूषो को महिलाओ के होंठ बहुत आर्कषित करते है, भीगे-भीगे गुलाबी होठं सभी के आर्कषण का केन्द्र होते है आइये जाने कुछ दिलचस्प तथ्य होठो की बनावट के बारे में

होंठ:- यदि होंठ लाल, पतले चिकने, अच्छी आकृति वाले होते है तो ऎसे होठो वाली महिलाएं स्वभाव से सेक्सी तथा पति का प्यार पाने वाली होती है। अगर होंठ मोटे, भारी तथा चौ़डे है तो महिला व्यभिचारी हो सकती है अगर नींचला होंठ लाल, गोल व एक पतली रेखा वाला है तो यह महिला बहुत भाग्यशाली तथा धनवान होती है। परन्तु अगर नीचला होंठ मोटा तथा रंग मे काला है तो यह महिलाएं स्वभाव से संदिग्ध चरित्र वाली तथा अपने पति को खो सकती है। यदि नीचला होंठ सूखा लंबा व पतला हो तो यह बीमारी का संकेत है।

ठोडी :- एक गोल, मुलायम तथा सु़डौल ठो़डी अच्छे भाग्य की संकेत है। जब ठो़डी शाकार, भारी, मोटी, गोल होती है तो ये महिलाएं जल्दी गुस्से वाली तथा जल्दी निर्णय लेने वाली होती है। वह गोपनीय ,हानिकारक स्वकेन्द्रित तथा जिंन्दगी में परेशानियां झेलने वाली हो सकती है। अगर किसी महिला की ठो़डी में डिंपल है तो वह हंसमुख, प्यार करने वाली, दयालु ह्वदय वाली होने के साथ-साथ जीवन के लिए जरूरी धन संपदा मे कम भाग्यशाली होती है। लंबी ठो़डी वाली महिलाएं पूर्ण सांसारिक सुखो की इच्छा रखने वाली तथा चरित्रहीन होती है।

आइब्रो(भौहें) :- जब भौहें धनुष की तरह हो, और बाल नरम तथा न कम न ज्यादा हो तो ये महिलाएं खूबसूरत तथा भाग्यशाली व चरित्रवान होती है। बहुत ही कम या ना के बराबर बाल वाली भौहें रखने वाली महिलाएं र्दुभाग्यशाली होती है। अगर भौहे नाक के ऊपर बीच मे मिलती है तो यह विधावापन का संकेत है। ये महिलाएं दुष्ट और धोखेबाज होती है। सीधी लंबी व मोटी तथा बीच बीच में से टूटी हुई भौहे बदनसीबी का प्रतीक है। पलको के उपर घुमावदार, काली नरम तथा थो़डी मोटी भौहो वाली महिलाएं भाग्यशाली होती है।


Amount of short articles:
Amount of articles links:

Photo Gallery

Poll

सही है, तथ्यों पर आधारित लेख है - 100%
गलत है, धार्मिक भावनाएं आहत हुई हैं - 0%
बता नहीं सकते - 0%