Monday, 20 August 2018
Blue Red Green

परिवार ने सिखाया 'सहना मत': बहादुर बहनें


रोहतक

बस में छेड़छाड़ के मामले में युवकों की पिटाई करने वालीं बहनों पूजा और आरती का एक और विडियो वायरल हुआ है। इस पर उन्होंने कहा कि बदतमीजी करने वालों को वे पहले भी सबक सिखाती रही हैं। एक पुराना विडियो वायरल हो जाने के बाद आरोपी पक्ष दावा कर रहा है कि लड़कियां सुनियोजित ढंग से लड़कों से उलझती हैं और मारपीट करने के बाद उन्हें ब्लैकमेल करती हैं। इस विडियो में भी दोनों बहनें रोहतक बस स्टैंड के सामने स्थित हुडा सिटी पार्क में एक युवक की पिटाई कर रही हैं। कुछ युवक पास खड़े दिखाई दे रहे हैं। यह विडियो क्लिप करीब एक महीना पुराना बताया जा रहा है।



पूजा ने एनबीटी से कहा कि उनकी फैमिली ने उन्हें बदतमीजी को चुपचाप बर्दाश्त करना नहीं सिखाया है। पार्क में एक लड़के ने उनके साथ बदतमीजी की थी तो उसे सबक सिखाना पड़ा था। पूजा ने कहा कि यह मालूम नहीं है कि विडियो किसने बनाया है। विडियो सामने आया है तो अच्छा है, इस लड़के के खिलाफ भी एफआईआर दर्ज कराई जाएगी।



उन्होंने कहा कि कि बदतमीजी करने वालों को पहले भी ठीक किया है और किसी ने इस तरह के और भी विडियो बनाए हों तो क्या किया जा सकता है? आगे भी ऐसा करने वालों को यूं ही जवाब दिया जाएगा।

विडियो में लड़के को पीटते हुए गाली देने को लेकर उठाए जा रहे सवाल पर पूजा और आरती ने कहा कि ऐसे तर्क भी दिए जा रहे हैं कि शरीफ लड़कियां घर वालों की बदनामी नहीं होने देतीं, चुपचाप सिर झुकाए छेड़खानी सहकर घर आ जाती हैं। हम ऐसी लड़कियां नहीं हैं। क्या छेड़खानी करने वाले सही हैं और हम उनसे लड़ने और गुस्से में गालियां देने से खराब हो गए? न गालियां हमने बनाई हैं, न हमें गालियां देने का शौक है।

पूजा और आरती ने मंगलवार को अपने गांव की एक महिला के रोहतक में मीडिया के सामने पहुंचकर पहनावे और मोबाइल फोन के आधार पर चरित्र पर सवाल खड़े किए जाने और कई दूसरे आपत्तिजनक आरोपों पर कहा कि लड़कियां हिम्मत से आगे बढ़ती हैं तो उन्हें यही सुनना पड़ता है। लड़कियों को लेकर गैरजिम्मेदारी से कुछ भी कह देना आसान है।

उन्होंने कहा कि इन महिलाओं को हमारे घर आकर हमसे बात करनी चाहिए। पूजा ने इस तर्क की खिल्ली उड़ाई कि बार-बार हमारे साथ झगड़ा होता है तो हमें गलत करार दे दिया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि हर लड़की को बार-बार छेड़खानी का सामना करना पड़ता है लेकिन उस पर चुपचाप सबकुछ सहने का चौतरफा दबाव रहता है। अगर बार-बार छेड़खानी होगी तो बार-बार प्रतिरोध भी होगा और इसे कोई गलत मानता है तो मानता रहे।

सोनीपत जिले के गांव थाना खुर्द निवासी पूजा और आरती रोहतक के राजकीय महिला कॉलेज के बीसीए फाइनल इयर की स्टूडेंट हैं। दोनों का कॉलेज रेकॉर्ड बेहतरीन है। कॉलेज की प्रिंसिपल लक्ष्मी बेनीवाल दलाल का कहना है कि दोनों की लड़ाई झगड़े की कभी कोई शिकायत नहीं आई है। महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय से संबद्ध कॉलेजों के बीसीए सेकंड इयर के रिजल्ट में दोनों बहनों की पजिशन 22वीं और 24 वीं रही है। मंगलवार को दोनों बहनें एग्जाम देने रोहतक आई थीं।

वेश्याएं हैं आइटम गर्ल्स

See photo

नई दिल्ली। खुद को समाज का पहरुआ साबित करने का दंभ भरनेवाली हिंदू महासभा और इससे जुड़े लोगों की समाज के प्रति क्या मानसिकता है, इसे जानकर आप हैरान रह जाएंगे। हिंदू महासभा के उत्तर प्रदेश यूनिट के महासचिव नवीन त्यागी ने हमारे सहयोगी अंग्रेजी न्यूज चैनल टाइम्स नाउ की रिपोर्टर से 'ऑफ द कैमरा' बातचीत में कहा कि अंग प्रदर्शन करनेवाली लड़कियां, जो खुद को आइटम गर्ल्स कहा करती हैं, उन्हें वह कलाकार तो कभी नहीं कह सकते। उनकी (नवीन की) नजर मेें तो वे (आइटम गर्ल्स) वेश्याएं हैं। बातचीत में उन्होंने आइटम गर्ल्स के सामाजिक बहिष्कार करने की भी वकालत कर डाली।

नवीन ने कहा, 'वैसी हर लड़कियां और औरतें जो स्क्रीन पर अंग प्रदर्शन करती हैं और खुद को आइटम गर्ल्स वगैरह कहती हैं, वह वाकई में वेश्या हैं।' वह यहीं नहीं रुके उन्होंने आगे कहा कि यूपी हिंदू महासभा जनवरी 2015 में सुप्रीम कोर्ट से आग्रह करेगी कि वह इन 'तथाकथित' आइटम गर्ल्स को वैश्या का दर्जा दे।

इसपर जब रिपोर्टर ने पूछा कि क्या इसके लिए तैयारियां की जा चुकी हैं और क्या सुप्रीम कोर्ट उनकी दलील मान लेगा तो नवीन त्यागी ने कहा, 'इस संबंध में सारे कागजात तैयार कर लिए गए हैं। तैयारियां लगभग पूरी हो गई हैं। जहां तक बात सुप्रीम कोर्ट के हमारी दलील मानने की बात है तो हमारे साथ कोई छोटे वकील तो हैं नहीं। हमारे साथ बहुत बड़े-बड़े वकील हैं। साथ ही हमने सुप्रीम कोर्ट को आश्वस्त करने के लिए उसे कुछ विडियो क्लिप्स भी सौंपेंगे जो उनके दावे को पुष्ट करेंगे।' उन्होंने कहा कि अगर एक बार सुप्रीम कोर्ट उनकी दावे पर मुहर लगा दे तो फिर वह ऐसी लड़कियों और औरतों का सामाजिक बहिष्कार करेंगे।

दरअसल, टाइम्स नाउ की रिपोर्टर अखिल भारत हिंदू महासभा के उपाध्यक्ष धर्मपाल सिवाच के हाल में आए उस बयान को लेकर नवीन त्यागी का पक्ष जानना चाहती थीं जिसमें उन्होंने (धर्मपाल सिवाच ने) कहा था कि समाज में अश्लीलता फैलाने के लिए लड़कियों के अभद्र पहनावे जिम्मेदार हैं।

हालांकि, धर्मपाल के इस बायन पर मचे बवाल के बाद हिंदू महासभा ने सफाई देते हुए कहा कि वह लड़कियों की स्वतंत्रता के खिलाफ नहीं है। संगठन के हरियाणा यूनिट के प्रवक्ता ललित भारद्वाज ने कहा कि धर्मपाल सिवाच जी तो हरियाणा की बहादुर बहनों पूजा और आरती को सम्मानित करेंगे।
बहरहाल, यूपी हिंदू महासभा के जनरल सेक्रट्री नवीन त्यागी से जब कहा गया कि वह कैमरे के सामने अपने विचार रखें तो उन्होंने ऐसा करने से मना कर दिया। उन्होंने कहा कि वह अभी इस मुद्दे पर बयान नहीं देंगे। हालांकि, उन्हें पता नहीं था कि पूरी बातचीत कैमरे में रिकॉर्ड हो चुकी है।

लड़कियों की ड्रेस पर सोच बदलने की जरूरत: हाई कोर्ट


इलाहाबाद इलाहाबाद हाई कोर्ट ने छात्राओं के ड्रेस कोड बदलने को लेकर दायर एक जनहित याचिका खारिज कर दी है। हाई कोर्ट ने ऐसी याचिका पर नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि यदि शिक्षण संस्थान समझते हैं कि ड्रेस कोड उचित है तो इसमें कुछ भी गलत नहीं है। कोर्ट ने आगे कहा है कि इसमें अगर कुछ बदलने की जरूरत है तो लोगों को अपनी सोच बदलने की जरूरत है।

यह आदेश हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस डी. वाई. चन्द्रचुड़ और जस्टिस दिलीप गुप्ता की बेंच ने प्रदीप कुमार श्रीवास्तव की जनहित याचिका को खारिज करते हुए दिया है। याचिका दायर कर इलाहाबाद के अंग्रेजी स्कूलों में लड़कियों के ड्रेस कोड पर आपत्ति जताते हुए जनहित याचिका दायर की गई थी और मांग की गई थी इस प्रकार के ड्रेस कोड पर पाबंदी लगायी जाए। याचिका में कहा गया था कि लड़कियों का स्कूल में स्कर्ट पहनकर ड्रेस में आना ठीक नहीं है। कहा गया था कि ड्रेस में स्कर्ट की साइज भी कुछ स्कूल छोटी रखते हैं जो बिल्कुल अनुचित है। इस प्रकार की स्कूल ड्रेस लड़कियों के हित में भी नहीं है।

More Articles...

  1. अमेरिका में हर सप्ताह 1700 लड़कियां बनती हैं मां
  2. भारतीय महिलाएं धूम्रपान में विश्व में दूसरे स्थान पर
  3. लिव-इन रिलेशंस के संबंध में दिशा-निर्देश तय
  4. बेटे के लिए कोख में मार दीं 9 बेटियां
  5. मप्र. चुनाव : महिलाओं को टिकट देने में कंजूसी
  6. डांस बार पर प्रतिबंध लगा पाएगी महाराष्ट्र सरकार?
  7. कांग्रेस में महिलाओं को 50 फीसदी आरक्षण होगा
  8. महिलाओं की सुरक्षा को सामने आया बेस्‍ट एप्‍पस
  9. बेटे से शादी का झांसा देकर विधायक ने किया रेप
  10. सेक्स में ‘साइज’, महिलाओं की पहली पसंद…
  11. मुख मैथुन से महिलायें होती हैं ज्‍यादा उत्‍तेजित
  12. 'पॉर्न देखकर मैंने बलात्कार को सहज मान लिया था'
  13. संस्थाओं को उठाना होगा नारी सुरक्षा का बीड़ा
  14. विवाह कानून पर भिडे पुरूष व महिला मंत्री
  15. पुरूषों के मुकाबले महिला नेता कम भ्रष्ट?
  16. बदलावों की अनदेखी या उपेक्षा न करें युवा व महिलाएं
  17. कश्‍मीरी लड़की ने तैयार किया एंड्रायड एप्लिकेशन-'डायल कश्‍मीर'
  18. 52 साल का डीएसपी बना दूल्हा और दुल्हन 14 साल की
  19. यौन शोषण की शिकायत की तो महिला कर्मचारी को नौकरी से निकाला

Amount of short articles:
Amount of articles links:

Photo Gallery

Poll

सही है, तथ्यों पर आधारित लेख है - 100%
गलत है, धार्मिक भावनाएं आहत हुई हैं - 0%
बता नहीं सकते - 0%