Friday, 19 January 2018
Blue Red Green

भारत ने तीरंदाजी विश्व कप में ब्रॉन्ज मेडल जीता

कोलकाता।। भारत ने कंपाउंड पुरूष टीम स्पर्धा में ब्रॉन्ज मेडल जीतकर कोलंबिया के मेडेलिन में चल रहे तीरंदाजी विश्व कप के तीसरे राउंड में अपना खाता खोला। यहां मिली जानकारी के मुताबिक रजत चौहान, संदीप कुमार और रतन सिंह खुराइजम ने मेजबान टीम की कड़ी चुनौती से उबरते हुए कल यहां ब्रॉन्ज मेडल के मुकाबले में 215-210 से जीत दर्ज की।

दीपिका कुमारी, लैशराम बोम्बायला देवी और रिमिल बिरूली की तिकड़ी महिला रिकर्व टीम स्पर्धा के खिताबी मुकाबले में आज चीन की टॉप सीड जोड़ी से भिड़ेगी। भारत के पास मेडल जीतने का एक और मौका होगा जब रिकर्व मिक्स्ड टीम के ब्रॉन्ज मेडल के प्ले ऑफ मुकाबले में अतनु दास और दीपिका की जोड़ी मैक्सिको की जोड़ी से भिड़ेगी।

कंपाउंड पुरूष टीम स्पर्धा के ब्रॉन्ज मेडल के मुकाबले में तेज हवा के कारण मुश्किल हालात के बीच भारतीय तिकड़ी ने जुआन कार्लोस करासक्विला, कैमिलो आंदे्रस कारडोना और जोस कार्लोस ओसपिना की स्थानीय टीम को हराया। भारतीय टीम ने अच्छी शुरूआत करते हुए पहले चरण के बाद कोलंबिया की टीम पर 52-50 की बढ़त बनाई।
अंताल्या में पिछले विश्व कप में मिश्रित वर्ग का रजत पदक जीतने वाले राजस्थान के चौहान से प्रेरणा लेकर भारत ने तीसरे चरण में चार पर्फेक्ट 10 के साथ 56 अंक जुटाए और 158-156 के कुल स्कोर के साथ बढ़त बना ली। भारतीय टीम ने इसके बाद चौथे और अंतिम चरण में 57 अंक जुटाकर कोलंबियाई टीम को कंपाउंड पुरूष वर्ग में पहला विश्व कप पदक जीतने से रोक दिया।

फ्रांस की पुरूष टीम ने 2008 के बाद अपना पहला स्वर्ण पदक जीता जबकि अमेरिकी महिला टीम ने कोलंबिया को हराया।

खेल रत्न के लिए किसी क्रिकेटर की सिफारिश नहीं


नई दिल्ली : भारतीय क्रिकेट बोर्ड ने देश के सक्रिय खिलाड़ियों को दिये जाने वाले सर्वोच्च सम्मान राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार के लिए इस साल किसी खिलाड़ी के नाम की सिफारिश नहीं की है।

बीसीसीआई ने युवा बल्लेबाज विराट कोहली का नाम अजरुन पुरस्कार के लिये जबकि महान सलामी बल्लेबाज और पूर्व भारतीय कप्तान सुनील गावस्कर के नाम जीवनपर्यंत उपलब्धि के लिये दिये जाने वाले ध्यानचंद पुरस्कार के लिये भेजा है।
बीसीसीआई के एक सीनियर अधिकारी ने कहा कि बीसीसीआई ने राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार के लिये कोई नाम नहीं भेजा है क्योंकि उसे कोई ऐसा खिलाड़ी नजर नहीं आया जो इस साल यह पुरस्कार पाने के योग्य हो। उन्होंने कहा कि ऐसे में किसी खिलाड़ी के नाम की सिफारिश करने का कोई मतलब नहीं बनता था।

बीसीसीआई को विराट कोहली और सुनील गावस्कर अजरुन और ध्यानचंद पुरस्कार के लिये दो उपयुक्त नाम लगे। पिछले साल खेल रत्न पुरस्कार के लिये राहुल द्रविड़ के नाम पर चर्चा चल रही थी लेकिन वह इसे हासिल नहीं कर पाये। कई का मानना है कि पुरस्कार समिति की बैठक में बीसीसीआई प्रतिनिधि रवि शास्त्री की अनुपस्थिति के कारण द्रविड़ को यह पुरस्कार नहीं मिल पाया था। शास्त्री ने हालांकि बाद में स्पष्ट किया था कि उन्हें बैठक में उपस्थित होने के लिये खेल मंत्रालय से कोई औपचारिक आमंत्रण नहीं मिला था।

मास्टर ब्लास्टर सचिन ने आईपीएल से लिया संन्यास

कोलकाता : क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर ने आज इंडियन प्रीमियर लीग से संन्यास लेने की घोषणा कर दी है। तेंदुलकर ने यह ऐलान कोलकाता के ईडन गार्डन मैदान में रविवार को खेले गए आईपीएल-6 के फाइनल मुकाबले में चेन्नई सुपर किंग्स से मुंबई इंडियंस की टीम के जीतने और आईपीएल चैंपियन बनने के तुरंत बाद किया। हालांकि सचिन ने आज के मैच में हिस्सा नहीं लिया था।

तेंदुलकर ने अपनी टीम की खिताबी जीत के तुरंत बाद कहा, ‘यह मेरा आखिरी आईपीएल था। मैं समझता हूं कि यह आईपीएल को अलविदा कहने का सही समय है। मुझे वास्तविकता स्वीकार करनी होगी। मैंने फैसला किया है कि यह मेरा आखिरी आईपीएल है। इससे बढ़िया समापन नहीं हो सकता।’

जब एक अन्य महान बल्लेबाज सुनील गावस्कर ने तेंदुलकर से पूछा कि क्या वह अगले साल वानखेड़े में मुंबई इंडियन्स का पहला मैच खेलकर संन्यास लेना पसंद नहीं करेंगे, उन्होंने कहा, ‘मैंने विश्व कप के लिये 21 साल तक इंतजार किया लेकिन इसके (आईपीएल खिताब) लिए केवल छह साल तक इंतजार करना पड़ा। यह मेरे लिए बहुत खास है। मैं आईपीएल के अगले सत्र में नहीं खेलूंगा।’ उन्होंने कहा, ‘मैं ट्राफी चूमने के लिये बेताब हूं। यह सभी को शुक्रिया कहने का सही समय है।’

पिछले साल दिसंबर में एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने वाले तेंदुलकर इस बार आईपीएल में अपेक्षित प्रदर्शन नहीं कर पाये थे। उन्होंने 14 मैचों में 22.07 की औसत से 287 रन बनाये और उनका उच्चतम स्कोर 54 रन रहा।

तेंदुलकर 13 मई को सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ मैच में बल्लेबाजी के दौरान चोटिल हो गये थे और इसके बाद वह किसी मैच में नहीं खेल पाये। वह 2008 में आईपीएल की शुरुआत से ही मुंबई इंडियन्स का हिस्सा थे। उन्होंने इस टूर्नामेंट में 78 मैचों में 34.83 की औसत से 2334 रन बनाये जिसमें एक शतक और 13 अर्धशतक शामिल हैं। अब तक 198 टेस्ट मैच खेलने वाले तेंदुलकर हालांकि लंबी अवधि की क्रिकेट में बने हुए हैं।

Subcategories


Amount of short articles:
Amount of articles links:

Photo Gallery

Poll

सही है, तथ्यों पर आधारित लेख है - 100%
गलत है, धार्मिक भावनाएं आहत हुई हैं - 0%
बता नहीं सकते - 0%