Wednesday, 17 October 2018
Blue Red Green

Home देश हम दलों को भी जोड़ेंगे और दिलों को भी जोड़ेंगे

हम दलों को भी जोड़ेंगे और दिलों को भी जोड़ेंगे

पठानकोट: चुनाव अभियान समि‌ति की कमान संभालने के बाद अपनी पहली रैली में नरेंद्र मोदी ने भाजपा की एनडीए प्लस की योजना को आगे बढ़ाने की बुनियाद रख दी है। साथ ही इस बात के भी संकेत दिए कि धारा-370 को लेकर जनसंघ के संस्थापक नेता डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी के सपने को वह हर हाल में पूरा करेंगे।

पंजाब और जम्मू एवं कश्मीर की सीमा पर स्थित माधोपुर में भारतीय जनसंघ के संस्थापक डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी की 60वीं पुण्यतिथि पर आयोजित संकल्प रैली में नरेंद्र मोदी ने गठबंधन सरकारों और चैधरी देवीलाल, बंशी लाल और फारुक अब्दुल्ला जैसे नेताओं के साथ काम करने के अपने अनुभवों को साझा करते हुए कहा कि हम दलों को भी जोड़ेंगे और दिलों को भी जोड़ेंगे। मोदी ने कहा कि डॉ. मुखर्जी की विचारधारा पर चलने वाली भारतीय जनता पार्टी यह संकल्प लेती है कि वह उनके अधूरे सपनों को हर हाल में पूरा करेगी। मोदी ने कहा, डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी आजाद भारत के पहले शहीद हैं। और हम उनकी शहादत को ऐसे ही जाया नहीं होने देंगे।

 

मोदी ने कहा कि डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने हिंदुस्तान में सबसे पहले राजनीतिक दलों को जोड़ने का काम किया था। मोदी ने कहा, मुखर्जी ने 1952 में पहली संसद में ही विभिन्न दलों के 35 सांसदों का मोर्चा बनाया था। और इस मोर्चा के बूते वे कांग्रेस की कारगुजारियों का पर्दाफाश करना चाहते थे। मोदी ने कहा ‌कि हिंदुस्तान के निर्माण में किसी ने कितना भी योगदान दिया हो, कांग्रेस किसी के योगदान को मानने के लिए तैयार नहीं है। किसी की शहादत को वह शहादत मानने को तैयार नहीं है। इसी प्रकार से वह डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी के बलिदान को भी भुला देना चाहती थी। उन्होंने सरकार से श्यामा प्रसाद मुखर्जी की मौत की जांच कराए जाने की मांग की।

 

मोदी ने कहा, डॉ. मुखर्जी हमेशा मानव सेवा के लिए तत्पर रहते थे। बंगाल में जब भुखमरी चरम पर थी तब लोगों के जीवन को बचाने के लिए उन्होंने सेवा यज्ञ चलाया था। 1943 में बंगाल में भुखमरी के समय जिस तरह से उन्होंने लोगों की सेवा के लिए सेवा यज्ञ चलाया था ठीक वैसे ही हम उत्तराखंड में प्रभावित लोगों के लिए सेवा यज्ञ करेंगे। उत्तराखंड के दौरे से लौटे मोदी ने संकल्प रैली में कहा कि आपदा की इस घडी में पूरा देश उत्तराखंड के साथ है। उत्तराखंड को इस स्थिति से निबटने में देश मदद करने में कोई कसर नहीं छोड़ेगा।

 

कांग्रेस पार्टी पर हमला करते हुए मोदी ने कहा, सरदार वल्लभ भाई पटेल ने बड़ी कुशलता से देश को जोड़ा लेकिन पंडित नेहरू के शासनकाल में कश्मीर मुद्दे पर लिया गया निर्णय आज परेशानी का सबब बना हुआ है। अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में कश्मीरियों को मरहम लगाया गया। एकता के सूत्र में बांधने की कोशिश की गई। जब अटल बिहारी वाजपेयी कश्‍मीर की समस्‍या को हल करने की कोशिश कर रहे थे तो कश्‍मीर के कुछ नेता उनके इन प्रयासों को नाकाम करने में जुटी थी। उन्होंने कहा कि यदि वाजपेयी सरकार 2004 में केंद्र में वापसी करती तो कश्‍मीरी पंडितों को न्‍याय मिलता।

 

मोदी ने कहा, कश्‍मीर के लोगों को भी देश के अन्‍य लोगों के साथ कदम से कदम मिलाकर चलने का हक है। मैं कहीं पढ़ रहा था कि कश्‍मीर घाटी से 300 लड़कियां कोचिंग के लिए कोटा में हैं। उनकी आंखों में आगे बढ़ने और कुछ कर दिखाने का सपना है।

 

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पर हमला करते हुए मोदी ने कहा, ृमैं प्रधानमंत्री से पूछना चाहता हूं कि सरबजीत सिंह को मार दिया गया, आपने क्या किया। हमारे जवानों के सिर काट लिए गए उसके लिए आपने क्‍या किया?ृ मोदी ने सरकार के भारत निर्माण विज्ञापन पर भी चुटकी ली। उन्होंने ‌कहा कि केंद्र सरकार ने भारत निर्माण विज्ञापन जारी किया था जिसमें कहा गया था कि ‌हक है मेरा, जबकि मैंने कहा कि शक है मेरा। मेरे ऐसा कहने के बाद केंद्र सरकार ने इस विज्ञापन को टेलीविजन से हटा लिया। तो क्या यूपीए सरकार को भी अपने विज्ञापन पर शक है।

Add comment


Security code
Refresh


Amount of short articles:
Amount of articles links:

Photo Gallery

Poll

सही है, तथ्यों पर आधारित लेख है - 100%
गलत है, धार्मिक भावनाएं आहत हुई हैं - 0%
बता नहीं सकते - 0%

  Search