Thursday, 21 June 2018
Blue Red Green

Home देश पंजाब के मुख्यमंत्री ने की राष्ट्रपति से मुलाकात

पंजाब के मुख्यमंत्री ने की राष्ट्रपति से मुलाकात

नई दिल्ली, 18 अप्रैल (ब्यूरो) पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल ने आज अपनी समूची पार्टी के सांसदों के साथ राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी से मुलाकात कर फांसी की सजा पाए देविंदर पाल सिंह भुल्लर की माफी की गुहार लगाई। इस मौके पर शिरोमणि अकाली दल (बादल) के अध्यक्ष एवं उपमुख्यमंत्री सुखबीर बादल ने राष्ट्रपति को एक ज्ञापन भी सौंपा। अकाली दल सरकार ने राष्ट्रपति को बताया कि अगर भुल्लर को फांसी दी जाती है तो पंजाब में अमन-शांति बिगड़ सकती है। कानून-व्यवस्था फिर पिछले दौर से गुजर सकती है, लिहाजा, उसकी तबियत और हालात देखते हुए फांसी को उम्रकैद में बदल दिया जाए। राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी से मिलकर बाहर आए मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल ने कहा कि 16-17 साल से जो व्यक्ति जेल के अंदर बंद है उसकी मानसिक स्थिति वैसे ही बिगड़ जाती है, लिहाजा उसको फांसी देना उचित नहीं है। फांसी पर रोक लगाकर उम्रकैद में बदल दिया जाए।  बता दें कि भुल्लर को 1993 दिल्ली विस्फोट मामले में मृत्युदंड की सजा सुनायी गयी है।
मुखर्जी से मुलाकात के बाद बादल ने संवाददाताओं को बताया कि शिरोमणि अकाली दल के प्रतिनिधिमंडल ने राष्ट्रपति से अनुरोध किया कि वे 'पंजाब और शेष भारत में मुश्किल से आए सांप्रदायिक सद्भावÓ की खातिर भुल्लर को माफ कर दें। शिअद ने कहा कि यह 'दुर्लभ से भी दुर्लभतमÓ मामला नहीं है इसलिए टाडा अदालत द्वारा भुल्लर को सुनाई गई मौत की सजा को उच्चतम न्यायालय द्वारा बनाए रखने के फैसले की समीक्षा की जानी चाहिए। भुल्लर को 'न्याय के हित में रिहाÓ किया जाना चाहिए। बादल ने कहा कि कुछ अन्य तकनीकी बिंदु भी हैं। एक ऐसा कानून है जिसके अनुसार अगर कोई बहुत बीमार है तो उसे फांसी पर नहीं चढ़ाया जाना चाहिए। पिछले ढाई साल से वह (भुल्लर) बहुत बीमार है। शिअद द्वारा दायर याचिका में कहा गया कि भुल्लर की मानसिक हालत सही नहीं है। इसमें कहा गया कि विदेश मंत्रालय ने उसकी मौत की सजा में बदलाव की सलाह दी थी। भुल्लर पिछले 17 साल से जेल में है।
इस मौके पर सांसद हर सिमरत कौर बादल, नरेश गुजराल, सुखदेव सिंह ढ़ीढसा, परमजीत कौर गुलशन, शेर सिंह, बलविंदर सिंह, हरचरण सिंह बैंस सहित शिरोमणि अकाली दल के वरिष्ठ नेता मौजूद रहे।

Add comment


Security code
Refresh


Amount of short articles:
Amount of articles links:

Photo Gallery

Poll

सही है, तथ्यों पर आधारित लेख है - 100%
गलत है, धार्मिक भावनाएं आहत हुई हैं - 0%
बता नहीं सकते - 0%

  Search