Wednesday, 13 December 2017
Blue Red Green


Amount of short articles:
Amount of articles links:

नई दिल्ली: दिल्ली मेट्रो का किराया बढ़ने के बाद रोजाना 3 लाख यात्री घट गए हैं. डीएमआरसी ने पिछले महीने 10 अक्टूबर को किराया बढ़ाया था. किराया बढ़ने के बाद पांच किमी से ज्यादा का सफर तय करने वाला हर यात्री प्रभावित हुआ है. जबकि 32 किमी से ज्यादा की यात्रा के लिए अधिकतम किराया अब 60 रुपए है. 

दिल्ली मेट्रो का किराया दुनिया के बड़े शहरों की मेट्रो के मुकाबले ज्यादा है. बीजिंग, न्यूयॉर्क और पेरिस जैसे शहरों की मेट्रो के किराये से तीन गुना ज़्यादा किराया दिल्ली मेट्रो का है. अक्टूबर में किराये बढ़ने के बाद दिल्ली मेट्रो की महंगाई के मामले में सबसे आगे है. जो आमदनी का प्रतिशत दिल्ली मेट्रो के सफ़र पर ख़र्च किया जाता है वो 23.39% है यानी बीजिंग, न्यूयॉर्क और पेरिस जैसे शहरों से तीन गुना ज़्यादा है. 

बढ़ई का काम करने वाले 38 साल के रामकुमार और सरकारी नौकरी कर रहे अमित धंकड़ ने दिल्ली सरकार और पर्यावरण प्रदूषण नियंत्रण प्राधिकरण (EPCA) ने मेट्रो के भाड़ों में कटौती करने को कहा है लेकिन अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई. दिल्ली मेट्रो के तीसरे चरण के पूरे होने पर उम्मीद है कि एक लाख कारें सड़कों पर नहीं उतरेंगी, लेकिन उसमें देरी हो रही है. 2016 दिसंबर में इसे पूरा होना था जो अप्रैल 2018 तक टाल दिया गया है.

आखिर किन वजहों से हो रही नई मेट्रो लाइन में देरी?

  • कई जगहों पर समय से ज़मीन हासिल न हो पाने के कारण देरी हुई.
  • इनमें से कई जगहों पर समय बचाने के लिए दिल्ली मेट्रो ने निर्माण रणनीति में बदलाव किया.
  • कई बार एनसीआर में प्रदूषण के अधिक स्तर के कारण निर्माण कार्य रोकना पड़ा।
  • अगर काम कुछ दिनों के लिए भी रुकता है तो अकसर कर्मियों को दोबारा जमा करके काम शुरू करने में बहुत दिन लग जाते हैं.
  • जानकारों की राय में आर्थिक मदद और मेट्रो को दूसरे परिवहन से जोड़ना ही सबसे बेहतर हल है.

विदेशों में कैसी है मेट्रो की व्यवस्था?

  • न्यूयॉर्क और सिंगापुर में पूरी तरह एकीकृत मेट्रो व्यवस्था है.
  • जिसमें बच्चों, छात्रों और बुज़ुर्गों को छूट मिलती है.
  • बीजिंग में शहर और केंद्रमिल कर आर्थिक मदद करते हैं.
  • हांगकांग में 37 फ़ीसद तक की आमदनी किराये से नहीं बल्कि विज्ञापन जैसी दूसरी चीज़ों से होती है.



अक्टूबर के बाद क्या है नया किराया 

  • 2 किमी. तक के लिए 10 रुपए
  • 2 से 5 किमी. तक के लिए 20 रुपए
  • 5 से 12 किमी. के लिए 30 रुपए
  • 12 से 21 किमी. के लिए 40 रुपए
  • 21 से 32 किमी. के लिए 50 रुपए
  • 32 किलोमीटर से ज्यादा की यात्रा के लिए 60 रुपए

स्मार्ट कार्ड का इस्तेमाल करने वाले यात्रियों को प्रत्येक यात्रा पर 10 फीसदी की छूट मिलती रहेगी. डीएमआरसी के अनुमान के अनुसार मेट्रो के कुल यात्रियों में से 70 फीसदी स्मार्ट कार्ड उपभोक्ता हैं. उन्हें सुबह 8 बजे तक, दोपहर को 12 बजे से 5 बजे के बीच और रात को नौ बजे से मेट्रो सेवाएं समाप्त होने तक सामान्य समय के दौरान 10 फीसदी की अतिरिक्त छूट मिलेगी.

दिल्ली मेट्रो ने सोमवार से शनिवार (कोई राष्ट्रीय अवकाश नहीं होने पर) के दौरान मेट्रो का संचालन शुरू होने से सुबह 8 बजे तक, दोपहर 12 बजे से शाम 5 बजे तक और रात 9 बजे से संचालन खत्म होने तक के तीन हिस्सों को नॉन-पीक ऑवर्स माना है. यानी सुबह 8 बजे से पहले, दोपहर 12 से 5 बजे के बीच और रात 9 बजे के बाद मेट्रो में सवार होता है, और स्मार्टकार्ड इस्तेमाल करता है, उसे किराये की रकम में 20 फीसदी की छूट मिलेगी.

Vedio Gallery


Amount of short articles:
Amount of articles links:

Photo Gallery

  Adverstisement



Poll

सही है, तथ्यों पर आधारित लेख है - 100%
गलत है, धार्मिक भावनाएं आहत हुई हैं - 0%
बता नहीं सकते - 0%

  Search