Wednesday, 13 December 2017
Blue Red Green


Amount of short articles:
Amount of articles links:

नई दिल्लीः देश की राजधानी दिल्ली में एक शर्मसार करने वाला मामला सामने आया है। पुलिस ने एक पिता को गिरफ्तार किया है। आरोपी पिता पर अपनी बेटी से डेढ़ साल तक रेप करने का आरोप है। पुलिस ने जानकारी देते हुए बताया है कि 15 साल की लड़की ने पत्र लिखकर जानकारी दी कि उसका पिता पिछले डेढ़ साल से उसका रेप कर रहा है। साथ ही किसी को बताने पर जान से मारने की धमकी देता था। 

बेटी ने मां के सामने बताई सच्चाई

दिल्ली पुलिस के एक अधिकार ने बताया कि ये पूरा मामला शनिवार की रात को उस समय सामने आया जब लड़की के मां से पर्स से कुछ पैसे चोरी हो गए, जब मां ने उससे पूछा तो वो रोने लगी, पहले तो मां को लगा कि ये पैसे ऐसी ने चोरी किए हैं लेकिन बाद में लड़की ने अपनी मां के सामने सारे कहानी बयां कर दी। 

मां ने दर्ज कराई रिपोर्ट

बेटी की बात सुनकर मां पुलिस थाने पहुंची और अपने पति के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई। रिपोर्ट दर्ज कराने के बाद पुलिस ने आरोपी पिता को गिरफ्तार कर लिया है। लड़की ने पुलिस को बताया कि जब भी वो घर पर अकेली होती थी, तभी उसका पिता उसके साथ ये गलत काम करता था। 

पीड़ित लड़की की कि जा रही है काउंसलिंग

पीड़ित लड़की अभी एक एनजीओ में जहां, उसकी काउंसलिंग की जा रही है। अभी तक आरोपी पिता की ओर से कोई बयान नहीं आया है। पुलिस आरोपी से पूछताछ कर रही है।

नई दिल्ली। पाकिस्तान में चल रहे आतंकी ठिकानों पर अमेरिका ने अब पाक को दो टूक जवाब दिया है। अमेरिका की खुफिया एजेंसी के चीफ ने साफ कहा है कि अगर पाकिस्तान आतंक को पनाह देना बंद नहीं करता है और उनके खिलाफ कार्रवाई नहीं करता है तो हम कुछ भी करेंगे ताकि इस बात को सुनिश्चित कर सके कि पाकिस्तान में इस तरह का कोई भी सुरक्षित आतंकी ठिकान ना बचे। अमेरिका के वॉयस ऑफ अमेरिका रेडियो से बात करते हुए अमेरिकी खुफिया एजेंसी के चीफ ने कही। अमेरिका के सेंट्रल इंटेलिजेंस एजेंसी के चीफ माईक पॉपियो का यह बयान ऐसे समय पर आया है, जब दो दिन बाद अमेरिकी रक्षा सचिव जेम्स मैटिस पाकिस्तान के दौरे पर जा रहे हैं। 

रक्षा सचिव ने किया बचाव

माईक ने कहा कि मैटिस पहले पाकिस्तान से इस बात को अच्छे से कहेंगे, वह अमेरिका के राष्ट्रपति का संदेश पाकिस्तान को देंगे कि ट्रंप आतंक को पनाह देने वाली जगह को खत्म करने के लिए काफी गंभीर हैं। माईक ने कहा कि अगर पाकिस्तान ऐसा नहीं कर पाता है तो हम कुछ भी करेंगे ताकि पाकिस्तान में इस तरह का सेफ टेरर हेवेन ना बचे। वहीं मैटिस ने कहा कि हम पाकिस्तान को ठेस नहीं पहुंचाएंगे क्योंकि हमे उम्मीद है कि वह आतंकवाद को खत्म करने का अपना वायदा पूरा करेगा। 

पाक दौरे पर रक्षा सचिव

वॉयस ऑफ अमेरिका के अनुसार पाकिस्तान जाने से पहले मैटिस ने कहा कि मैं इस तरह से मुद्दों को नहीं हैंडल करता, मैं इस बात को मानता हूं कि हम एक साथ मिलकर समाधान ढूंढते हैं और फिर उसपर काम करते हैं। मैटिस आज इस्लामाबाद पहुंच रहे हैं, माना जा रहा है कि वह पाकिस्तान की सेना और शीर्ष नेताओं से मुलाकात करेंगे। वह अफगानिस्तान, क्षेत्रीय सुरक्षा सहित तमाम द्वीपक्षीय मुद्दों पर बात करेंगे। 

ट्रंप ने दिया था दो टूक बयान

अमेरिका कई सालों से यह कहता आ रहा है कि पाकिस्तान अफगानी तालिबानियों को पनाह दे रहा है, हक्कानी नेटवर्क को भी वह पनाह दे रहा है जो अफगानिस्तान में कई आतंकी घटनाओं को अंजाम देता है, जिसके चलते ना सिर्फ अफगानिस्तान बल्कि अमेरिका के भी सैनियों को जान गंवानी पड़ती है। अगस्त माह में ट्रंप ने पाकिस्तान पर आतंकियों को पनाह देने का आरोप लगाया था, उन्होंने कहा था कि पाकिस्तान ऐसे आतंकी संगठनों की मदद करता है जोकि अमेरिकियों को मारते हैं। उन्होंने चेतावनी दी कि अगर इसके खिलाफ पाकिस्तान ने ठोस कदम नहीं उठाया तो अमेरिका की ओर से मिलने वाली आर्थिक मदद को रोक दिया जाएगा। 

पाक ने अभी तक कुछ नहीं किया

ट्रंप प्रशासन के शीर्ष अधिकारी का कहना है कि ट्रंप की इस दो टूक के बाद पाकिस्तान ने कुछ भी नहीं किया है। पिछले हफ्ते यूएस कमांडर ने कहा था कि तालिबान पाकिस्तान में बहुत आराम से रह रहा है और उसे काफी ड्रग्स का पैसा मिल रहा है। उन्होंने कहा कि ट्रंप के बयान के 100 दिन बीतने के बाद भी पाकिस्तान को सेफ टेरर हेवेन, आतंक और हिंसा को रोकने के लिए बहुत कुछ करने की जरूरत है। यूएस कमांडर व अफगानिस्तान में इंटरनेशनल फोर्स के कमांडर जॉन निकलसन ने कहा कि हमने अभी तक कुछ नया करते हुए नहीं देखा है, पाकिस्तान ने कुछ कदम उठाने की बात कही थी लेकिन अभी तक ये कदम नहीं उठाए हैं।


अहमदाबाद । गुजरात में मतदान के पहले चरण से पहले चुनाव प्रचार चरम पर है। ने भरूच में रैली को संबोधित करने के बाद प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी सुरेंद्रनगर में रैली को संबोधित कर रहे हैं। रैली को संबोधित करते हुए पीएम ने कहा, ' कुछ दिन पहले मैंने कहा था कि 3 चुनावों के नतीजे निश्चित हैं- यूपी स्थानीय निकाय चुनाव, गुजरात चुनाव जहां भाजपा जीतेगी और कांग्रेस के अध्यक्ष पद का चुनाव जहां एक परिवार जीतेगा। हमने देखा यूपी में क्या हुआ।' 

शहजाद पूनावाला ने किया बहादुरी का काम 

राहुल गांधी के कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव पर प्रश्न चिह्न उठाने वाले युवा कांग्रेस नेता शहजाद पूनावाला की तारीफ करते हुए पीएम मोदी ने  कहा- 'आपने एक बहादुरी का कार्य किया है लेकिन दुख की बात यह कि कांग्रेस में हमेशा ऐसा होता हुआ आया है। कांग्रेस अध्यक्ष के चुनाव में जो धांधली हो रही है उसका खुलासा शहजाद ने किया है। कांग्रेस ने उनकी आवाज दबाने की कोशिश की और उन्हें सोशल मीडिया ग्रुप से निकालने की कोशिश की। जिनके पास कोई आंतरिक लोकतंत्र नहीं होता वो जनता के लिए कार्य नहीं कर सकते हैं।'

कांग्रेस पर लगाया जातिवाद की राजनीति करने का आरोप 

 इससे पहले भरूच में एक रैली को संबोधित करते हुए पीएम ने कहा, 'कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश में कांग्रेस ने तक शासन किया। हमने देखा कि निकाय चुनाव में कांग्रेस का क्या हाल हुआ। उत्तर प्रदेश और गुजरात दोनों को कांग्रेस के बारे में पता है।' मोदी ने जनता से सवाल पूछते हुए कहा,  'क्या आपको कांग्रेस के शासनकाल के दौरान भरूच की बदहाल कानून-व्यवस्था याद है? कर्फ्यू और हिंसा तब आम बात थी। भाजपा ने इसे न केवल भरूच में बदला बल्कि समूचे गुजरात में बदल दिया।'

उन्होंने कांग्रेस पर बंटवारे और जातिवाद की राजनीति का आरोप लगाते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी गुजरात में भाई-भाई को लड़ा रही है।  जो यूपी कांग्रेस की कर्मभूमि रहा है, वो भी यह पार्टी हार गई है। रैली को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा, जिस तरह भगवान कृष्ण ने एक अंगुली पर गोवर्धन पर्वत उठाकर अपनी ताकत दिखाई थी, उसी तरह आप 9 दिसंबर को वोटिंग मशीन पर भाजपा का बटन दबाकर अपनी ताकत दिखाना।

पीएम मोदी शाम को वह अहमदाबाद में स्वामी नारायण गुरुकुल विश्वविद्या प्रतिष्ठानम के अस्पताल का उद्घाटन करेंगे। इस मौके पर भाजपा एक विशाल जनसभा का आयोजन करने जा रही है। इसके लिए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं।

सोमवार को प्रधानमंत्री मोदी वलसाड और भावनगर में विकास रैलियों को संबोधित करेंगे। वह जूनागढ़ और जामनगर में भी भाजपा उम्मीदवारों के पक्ष में जनसभा को संबोधित करेंगे। पीएम 6 दिसंबर के बाद भी तीन चरणों में राज्य का दौरा करेंगे। इस दौरान उनके द्वारा 24 जनसभा और रैलियों को संबोधित किए जाने की संभावना है। इससे पूर्व बुधवार को भी मोदी ने सौराष्ट्र और दक्षिण गुजरात में भाजपा के पक्ष में चुनाव प्रचार किया था।

नई दिल्ली: अक्सर देखा गया है कि जब भी कैटरीना कैफ बिग बॉस में आती हैं तो सलमान खान उनके सामने अपना दिल खोलकर रख देते हैं. बेशक वे ऐसा मजाक में ही करते हैं. लेकिन अक्सर देखा गया है कि मजाक में ही वे दिल की बात खुलेआम कह जाते हैं. इस वीकेंड का वार में भी कुछ ऐसा ही देखने को मिला. सलमान ने कैटरीना के साथ गेम खेला और उनका दिल टटोलने की कोशिश की. जिसमें कई बातें बाहर आईं और यह बात साफ दिखी कि सलमान खान के दिल में अब भी कैटरीना के लिए कुछ फीलिंग्स हैं. सलमान ने कैटरीना को दो हीरो की फोटो दिखाईं और उनमें से एक हीरो को चुनने के लिए कहा. पहले अनिल कपूर और अक्षय खन्ना की तस्वीर आई कैटरीना ने अनिल को चुना. फिर अनिल और अक्षय कुमार आए तो अक्षय को चुना. फिर शाहरुख खान और अक्षय की आई तो उन्होंने अक्षय को ही चुना. फिर आमिर-अक्षय में से कैटरीना ने आमिर को चुना. फिर आमिर और सलमान खान में से एक को चुनना था तो कैटरीना ने कहा कि मैं सलमान को रखूंगी. जबकि सलमान ने कहा कि अगर उन्हें एक हीरोइन चुननी हो तो वे सिर्फ कैटरीना का ही नाम लेंगे. उन्होंने सोनाक्षी सिन्हा और दीपिका पादुकोण के नाम को दरकिनार कर दिया.  उसके बाद बारी लाइ डिटेक्टर टेस्ट की आई तो कैटरीना ने सलमान की खबर ली. कैटरीना कैफ ने सलमान खान से सवाल दागे. कैटरीना कैफ ने सलमान खान से पूछा, आप शादी करेंगे या नहीं? सलमान ने कहा कि लोग कहते हैं, शादी करने की उम्र बीत गई है. लेकन कैटरीना बोलीं, आप अभी भी शादी कर सकते है. आफ टेंशन मत लीजिए. इसके बाद काफी बातें हुई और सलमान खान ने कहा, एक बार जो मैं कमिटमेंट कर दूं तो मैं अपने आप की भी नहीं सुनता, मेरी इस आवाज के साथ इस शो को कोई भी होस्ट नहीं करता क्योंकि उनका गला खराब था और आवाज भी ठीक से नहीं निकल रही थी.

संयुक्त राष्ट्र  अमेरिका ने अब संयुक्त राष्ट्र (यूएन) वैश्विक शरणार्थी समझौते से अलग होने की घोषणा की है। उसका कहना है कि ओबामा के कार्यकाल में हुए इस समझौते के कई प्रावधान अमेरिका की अप्रवासन एवं शरणार्थी नीतियों और ट्रंप प्रशासन के अप्रवासन सिद्धांतों के खिलाफ हैं। गौरतलब है कि ट्रंप प्रशासन यूनेस्को और पेरिस जलवायु समझौता समेत कई वैश्विक प्रतिबद्धताओं से अलग हो चुका है।

यूएन में अमेरिकी दूतावास ने कहा कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप समझौते की प्रक्रिया से अलग होने के लिए कृतसंकल्प हैं। इससे पहले यूएन महासचिव को अमेरिका के इस फैसले की जानकारी दी गई। शरणार्थी के संबंध में यूएन के न्यूयार्क घोषणा में शामिल होने के ओबामा प्रशासन के फैसले के बाद 2016 में अमेरिका समझौते की प्रक्रिया में शामिल हुआ।

यूएन में अमेरिका की राजदूत निक्की हेली ने कहा कि अमेरिका को दुनिया भर में शरणार्थियों को मदद देने पर अपनी अप्रवासी विरासत और लंबे समय से चले आ रहे नैतिक नेतृत्व पर गर्व है। इस मामले में अमेरिका से ज्यादा किसी और देश ने नहीं किया है। अमेरिका की उदारता बनी रहेगी। लेकिन अप्रवासी नीतियों पर हमारे फैसले केवल अमेरिकियों द्वारा ही किए जाने चाहिए। यह हम तय करेंगे कि कितनी अच्छी तरह से सीमा पर नियंत्रण करेंगे और किसे हमारे देश में प्रवेश की इजाजत मिले। उन्होंने कहा कि न्यूयार्क घोषणा में वैश्विक दृष्टिकोण अमेरिकी संप्रभुता के अनुकूल नहीं है।

Vedio Gallery


Amount of short articles:
Amount of articles links:

Photo Gallery

  Adverstisement



Poll

सही है, तथ्यों पर आधारित लेख है - 100%
गलत है, धार्मिक भावनाएं आहत हुई हैं - 0%
बता नहीं सकते - 0%

  Search